Sunday, December 6, 2015

" स्वामी विवेकानन्द हमारे ट्यूटर (निजी शिक्षक) हैं, उनसे प्रेम करो ! "

' सम्पूर्ण विश्व को भारत बनाओ ! '
    ॐ भद्रं कर्णेभिः श्रुणुयाम देवाः।
    भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः ।
    स्थिरैरन्ङ्गैस्तुष्टुवागं सस्तनूभिः।
    व्यशेम देवहितम् यदायुः ।
    स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः।
    स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
    स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः।
    स्वस्ति नो ब्रिहस्पतिर्दधातु ॥
    ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥
बहुत धैर्य के साथ देख रहे हैं, जो प्रोग्राम चलता है। जब इस विदाई सत्र की शुरुआत हुई थी तब सूर्यदेव भू-पृष्ठ के ऊपर थे। पानी से बहुत ऊपर में। और अब कितना समय हुआ -साढ़े आठ हो रहा है। अभी तक जो सुने हैं, उसमें स्वामीजी के बारे में स्वामीजी के पास से सीखने की क्या चीज है उसका एक कण भी हमको सीखने को मिला ? हमको तो देखने को नहीं मिला। चला, सब कुछ चलता है, लेकिन स्वामीजी कहाँ हैं ? 
बिल्कुल एब्सेंट। एब्सल्यूटली स्वामीजी इज एब्सेंट ! दिस  इज वेरी सैड थिंग। वी मस्ट हैव सफिसिएंट लव ऐंड रिगार्ड फॉर द पर्सन इन हूज नेम आवर ऑल इंडिया ऑर्गनाइजेशन इज रनिंग फॉर क्वाइट लॉन्ग टाइम एंड लॉन्ग ईयर्स !  हमारा यह 'अखिल भारतीय संगठन' जिस महापुरुष के नाम पर  पिछले काफी सालों से (४९ वर्षों से) कार्यरत है, उनके प्रति हमारे हृदय में पर्याप्त प्रेम और सम्मान (भक्ति) रहना चाहिये। यहाँ लम्बे समय से जो नृत्य और संगीत चल रहा था, मात्र उसी को संबल बनाकर मानवता की रक्षा नहीं की जा सकती। इस बात में कोई शक नहीं कि नृत्य और संगीत बहुत अच्छी कला है। लेकिन यह सब केवल कुछ समय तक ही अच्छा है। हमारी जो जरुरत है, वह है सभी तरह की व्यस्तताओं के बीच रहते हुए भी , स्वामी जी को  थोड़ा समझने की कोशिश करना। हमें बहुत गंभीरता पूर्वक यह संकल्प लेना चाहिये कि हमलोग अपने जीवन के कुछ वर्षों को स्वामी विवेकानन्द का अध्यन गहराई से  करने और उनकी शिक्षाओं पर मनन करने में खर्च करेंगे। 
इन दिनों लोगों से यह कहते फिरना कि, मैं तो स्वामी विवेकानन्द को बहुत निकट से जानता हूँ ' कुछ लोगों के लिये, मानो एक फैशन सा बन गया है। नहीं, ऐसा दिखावा करना ठीक नहीं है । मुझे कुछ ऐसे लोगों के साथ रहने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था, जिन्होंने काफी लम्बे वर्षों तक स्वामी विवेकानन्द के सानिध्य में रहते हुए ,अपना जीवन व्यतीत किया था- घंटों समय व्यतीत किया था, एक बार नहीं बार-बार किया था।स्वामी विवेकानन्द के निकट पहुँच पाना मेरे भाग्य में नहीं था, क्योंकि मैं बहुत कम उम्र का था।  (किन्तु कम उम्र में ही ) मुझे कुछ ऐसे ही लोगों के चरणों में बैठने तथा स्वामी विवेकानन्द और श्रीरामकृष्ण के विषय में उनके विचारों को सुनने का सौभाग्य मिला था। इसी तरह उनके साथ बहुत सालों तक रहने के बाद, केवल उनसे सुन सुन कर...ही कोई थोड़ा-बहुत यह समझ सके है, या बिल्कुल भी नहीं समझ पाते हैं कि श्रीरामकृष्ण कौन हैं ? स्वामी विवेकानन्द कौन हैं ? उनके पूर्व भी हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई -सभी सम्प्रदायों में एक से बढ़ कर एक अनेक महापुरुष अवतरित हो चुके हैं, किन्तु यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी कि ' श्रीरामकृष्ण और स्वामी विवेकानन्द' जैसी शक्तियाँ एक साथ [नर-नारायण अवतार-जैसे राम-हनुमान, कृष्ण-अर्जुन] कभी कभार ही इस धरा-धाम पर अवतरित होती हैं ! 
उनके पूर्व भी हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई -सभी सम्प्रदायों में एक से बढ़ कर एक अनेक महापुरुष अवतरित हो चुके हैं, किन्तु यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी कि ' श्रीरामकृष्ण और स्वामी विवेकानन्द' जैसी शक्तियाँ एक साथ [नर-नारायण अवतार-जैसे राम-हनुमान, कृष्ण-अर्जुन] कभी कभार ही इस धरा-धाम पर अवतरित होती हैं ! और वैसे कुछ लोगों से मिल पाने का सौभाग्य- 'मुझे' प्राप्त हुआ है, जिन्होंने उन दोनों [नर-नारायण अवतार] को साक्षात् देखा था ! क्या कोई इस बात की कल्पना भी कर सकता है ? यह कोई मजाक (गप) नहीं है ! उन्हीं दोनों के आशीर्वाद से १९६७ में महामण्डल का गठन हुआ था, और आज सम्पूर्ण भारतवर्ष में इसकी ३३० से भी अधिक शाखायें कार्यरत हैं ! राजनितिक दलों को छोड़ कर, सम्भवतः अन्य किसी संगठन (चरित्र-निर्माण कारी और मनुष्य-निर्माणकारी संगठन) की इतनी अधिक शाखायें  नहीं हैं।
स्वामी विवेकानन्द से हमें क्या प्राप्त होता है ? श्रीरामकृष्ण के निकट जाने से हमें क्या प्राप्त होता है ? 'श्रीरामकृष्ण -वचनामृत ' से हमें वह सन्देश प्राप्त होता है, जो अन्य शास्त्रों में देखने को नहीं मिलता। ' श्रीरामकृष्ण स्वयं भगवान हैं' - और स्वामी विवेकानन्द भी उनसे कुछ कम नहीं हैं ! यदि आप इस सम्बन्ध में कोई धारणा बनाना चाहते हों, कि 'भक्ति क्या होती है'?  अथवा यह जानने के इच्छुक हों कि भगवान (सत्य-प्रेम) का मनुष्य रूप कैसा होता है ? तो इसे समझने की दिशा में 'श्रीरामकृष्ण-स्वामी विवेकानन्द मॉडल ' के माध्यम से अग्रसर होना ही सबसे आसान  तरीका है। इसीलिये तो उन्हें अवतार कहा जाता है !

हमारे प्राचीन शास्त्रों-पुराणों में जिन महापुरुषों को अवतार कहा गया है, वे अब इस जगत से तिरोहित या अंतर्ध्यान हो चुके हैं। लेकिन यदि हम कोशिश करें, तो आज भी उन अवतारों को हम सशरीर देख सकते हैं। उन सभी अवतारों पर मेरा या जिस किसी का आज भी जितना विश्वास है, उन्हीं सब अवतारों के प्रति श्रीरामकृष्ण और स्वामी विवेकानन्द में जैसी भक्ति थी, भक्ति के उस स्तर को कोई छू भी नहीं सकता, या कभी फीका नहीं कर सकता। (द्रष्टव्य है कि ठाकुर ने ईश्वर के सभी अवतार -रूपों का दर्शन कर लिया था ! यहाँ तक कि मुहम्मद और ईसा का भी दर्शन किया था। ) इसीलिये सच पूछा जाय तो अब, आज के युग में भी कई प्रकार के देवी-देवताओं की मूर्तियों के होने और  विविध प्रकार से उनकी पूजा करने की कोई जरूरत नहीं है।  किन्तु हो क्या रहा है?  सरस्वती- पूजा से लेकर लक्ष्मी-पूजा, काली पूजा, दुर्गा पूजा,...जो चलता है, चलता है। ('छठ' पूजा, 'गणपतिबप्पा-मोरिया' पूजा भी शुरू हो गयी है), अब इतने सारे देवी-देवताओं की पूजा करने की जरुरत नहीं है। इसीलिये युग परिवर्तन होता रहता है, एक युग बीत जाने के बाद नया युग आता है। जो पूर्व काल में अवतरित हुए थे, उन्हें इस युग के  सामान्य जन भी अवतार बोल कर पूजना शुरू कर देते हैं । क्योंकि उन देवी-देवताओं की स्मृति उनके मन से लुप्त चुकी होती है, और अब वे ईश्वर द्वारा भेजे गए किसी अन्य (सुसमाचार सुनाने वाले) मसीहा के अवतरित होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। वे किसी नए 'नेता' (Apostle अवतार, या पैगम्बर) की बाट जोह रहे हैं, (इसीलिये इतने तरह तरह की मूर्तियों की पूजा कर रहे हैं) किन्तु पैगंबरों या देवदूतों का निर्माण करना इतना आसान नहीं है कि, इच्छा करते ही एक अवतार (ब्रह्मविद्, ऋषि या देवदूत) आकर सामने खड़ा  हो जाय ! यह सम्भव नहीं है !
इसीलिये अब हमलोगों को स्वामी विवेकानन्द के पास पुनः वापस जाना होगा, और मुझे बहुत गर्व है कि मुझे उस व्यक्ति को जानने और उनके साथ रहने का सौभाग्य मिला है,  जिसने श्री रामकृष्ण को देखा था, और बातें की थी, जिसने स्वामी विवेकानन्द को देखा था और उनसे भी बातें की थीं। यह मेरा निश्चित विश्वास है, जिसमें शक की कोई गुंजाईश नहीं- कि यदि कोई वैसे वरिष्ठ लोगों के मुख से श्रीरामकृष्ण और विवेकानन्द के विषय में केवल सुन भर लेगा तो उसके मन में उनके प्रति प्रेम, आराधना और पूजाभाव जाग्रत हो जायेगा।

मन में आया था, कि  कम नहीं है- किसी ऐसे आदमी से बात करना, जिसने कभी स्वामीजी से वार्तालाप किया हो, कम नहीं है किसी ऐसे आदमी को देखना जिसने श्रीरामकृष्ण का दर्शन किया है, और 'उनके' चरणों का स्पर्श किया है! और उनके चरणों की धूलि लेकर अपने सिर पर चढ़ा सके हैं ! तथा किसी ऐसे मनुष्य को केवल प्रणाम करने मात्र से ही कोई व्यक्ति उन उच्च आधात्मिक ऊँचाइयों तक पहुँच जाता है । और मुझे गर्व है कि मुझे इस तरह का थोड़ा अनुभव भी हुआ है, अन्यथा मैं शायद अखिल भारत विवेकानन्द युवा महामण्डल जैसे संगठन के संचालक पद को सुशोभित नहीं कर पाता। यह संगठन कोई क्लब नहीं है। यह संगठन किसी अन्य समाज-सेवी संगठन जैसा कोई संगठन नहीं है। यह इससे और अधिक बढ़कर  कुछ है। 

" आइ शुड से, एंड डिमांड, एंड डिक्लेअर !"   मुझे कहना चाहिये , मैं मांग करता हूँ और घोषणा करता हूँ कि यह संगठन-  १०० % रिलिजियस (धार्मिक) संगठन है। 'Religion' शब्द की व्युत्पत्ति (etymology) क्या है ?  ' Re-Legara  ' री -लेगयेर का अर्थ है - 'रीजॉइन', फिर से जुड़ जाना। जब तक हम इस धरातल पर रहते हैं, तब तक आडंबरी ठाट-बाट, शक्ति-सामर्थ्य प्रदर्शन, एवं इन्द्रिय-विषयों के भोगों में फंस कर, हमलोग मूर्खतावश स्वयं को ईश्वर से (अपने स्वरूप से) अलग कर लेते हैं। 
धर्म वह वस्तु है जो इन सब प्रलोभनों से हमारी आत्मा की रक्षा करता है। केवल धर्म ही हमें आध्यात्मिकता के उस  उच्च धरातल पर ले जा सकता है, जहाँ इस पृथ्वी की कोई भी अपवित्रता उसका स्पर्श नहीं  सकती। 'मनुष्य 'और कुछ नहीं, केवल कुछ शुद्ध आदतों का विकसित रूप है। मनुष्य भी एक पशु है, किन्तु एक ऐसा जिज्ञासु पशु है जिसके पास विवेक-विचार करने की क्षमता है ! जो कुछ भी उसको दिया जाय वह उसको वैसे ही झटपट निगल नहीं लेता है। वह उसका निरिक्षण-परीक्षण किये बिना आँख मूँद कर (आम का गूदा खाकर गुठली फेंक देता है, उसे भी) निगल नहीं लेता । मैंने तुमसे कहा था, मुझे ऐसे लोगों को देखने और वार्तालाप करने (सत्संग करने) का अवसर  मिला था, जिन्हें श्रीरामकृष्ण और स्वामी विवेकानन्द से मिलने और बातें करने का सुसंयोग और सौभाग्य प्राप्त हुआ था। और (इसी के कारण) आज हम कहाँ खड़े हैं? महामण्डल का नाम स्वामी विवेकानन्द के नाम से जुड़ा हुआ है; क्यों ? वे सांसारिक जीवन के प्रति सबसे अधिक सक्रीय मनुष्य थे, जिन्होंने मानवजाति को उन्नत बनाने में अपना जीवन समर्पित कर दिया था।  उन्होंने स्वयं मानवता को ही पूर्णत्व की ऊँचाइयों तक उन्नत कर दिया था।  इसीलिये यदि हम इस दृष्टि को, इस विश्वास को साथ लेकर स्वामी विवेकानन्द के निकट जायें, तो हमलोग उनको अधिक से अधिक अध्यन करेंगे, जो हमारी आत्मा एवं हृदय को संतुष्ट करेगा और हमारे नेत्रों से बहते रहने वाले अश्रुबिंदुओं को सुखा देगा। भाइयों, बताओ आज हम सभी लोग (जो इससे जुड़े हैं) कहाँ, किस ऊँचाई पर खड़े हैं ?
महामण्डल सिर्फ एक क्रिकेट, फुटबॉल आदि खेल खेलने वाले तरुणों का संगठन नहीं है, जहाँ खेलने फिर थोड़ा आगे बढ़ने का कुछ नाटकीय अवसर प्राप्त होते हों। युवाओं के बीच नाटक आदि मनोरंजन के बहुत पसंदीदा साधन रहे हैं, किन्तु ये सब चीजें युवाओं की यथार्थ शक्ति को चुरा भी लेती हैं । जब तक हमलोग कॉलेज नहीं गए थे, कॉलेज लाइफ समाप्त नहीं कर लिए थे तब तक हमलोगों को सिनेमा जाने, फिल्म देखने या थियेटर देखने वास्तविक अवसर प्राप्त नहीं था। स्कूल या कॉलेज में पढ़ते समय तो पिक्चर देखने की अनुमति बिल्कुल नहीं थी। हमलोगों को कछ भी स्वीकार करने में शर्मिन्दा नहीं होना पड़ता था।  इसीलिये इस तरह की बातों पर चर्चा करने का कोई अंत नहीं है।
इसीलिये भाइयों, जो लोग इस शिविर में एकत्रित हुए हो, मैं तुमसे केवल इतना ही अनुरोध करूँगा कि यहाँ चलने वाले विभिन्न कार्यक्रमों एवं विचार-विनमय करते समय (विवेकानन्द की ) शिक्षा को जितना अधिक से अधिक ग्रहण कर सके हो उसे अपने जीवन में उतारने की चेष्टा करते रहो । हमें समाज से विक्षुरित होती हुई चौंधिया देने वाली रौशनी से स्वयं को ऊपर उठाना है। क्योंकि वह चकाचौंध हमारी आँखों को जीवन-गठन की उस शिक्षा के प्रति अँधी बना देती है, जिसे हमारे ट्यूटर (निजी शिक्षक) स्वामी विवेकानन्द मनुष्य जीवन के सर्वोच्च आदर्शों के भण्डार से निकाल कर हमें प्रदान करना चाहते हैं । युवाओं को उन्हीं की शिक्षा के निकट लाना होगा, जो हमें उन्नत मनुष्य में विकसित कर सकती है।
श्रीरामकृष्ण सम्पूर्ण विश्व को एक 'उपहार' (पशुमानव को देवमानव में रूपान्तरित करने की पद्धति, या इन्द्रियातीत सत्य को देखने की पद्धति ) देने के लिये अवतरित होना चाहते थे ! किन्तु भारत की तुलना में,उसमें भी बंगाल, उसमें भी कोलकाता के जैसा अन्य कोई उपयुक्त स्थान उन्हें नहीं मिला, जहाँ मानवता को ऐसी बहुमूल्य बातें बताई जा सकती थी ! और वह उपहार उन्होंने कोलकाता में स्वामी विवेकानन्द को सौंप दिया। अब हमारा एकमात्र कार्य स्वामी विवेकानन्द को समझने की चेष्टा करना और (उनकी बताई हुई चरित्र-निर्माण की पद्धति के अनुसार ) अपने चरित्र को गढ़ना है, तथा उनके उपदेशों से प्राप्त होने वाले आत्मिक-जीवन के नये साँचे में अपने जीवन को ढालना है।  ताकि हमलोग एक नये भारत का निर्माण कर सकें। हमारा काम होगा नये भारत का निर्माण ! अब हमलोग उस भारत को देखकर संतुष्ट नहीं रहेंगे जिसका गला पिछले लम्बे समय से घोंट कर रखा गया है। हर हाल में हमें नये भारत का निर्माण करना ही है !
इसलिये भाइयों, शायद मैंने तुम लोगों को बहुत लम्बे समय से अनावश्यक ही रोके रखा है; किन्तु क्या किया जाय? इस महामण्डल की स्थापना ही इसलिए हुई थी कि जो युवा समाज की गलत बातों, मांसल बातों के  प्रति अधिक आकर्षण महसूस करते हैं, और दिगभ्रमित होकर मनुष्य बनने के लक्ष्य को भूल जाते हैं, उनके सामने मनुष्य जीवन को देव-दुर्लभ क्यों कहा है, इस सच्चाई को रख दिया जाय! मेरे सामने इतनी संख्या में युवा लोग एकत्रित हैं, किन्तु उन्हें अपने जीवन लक्ष्य, मनुष्य जीवन के सर्वश्रेष्ठ उद्देश्य को प्राप्त करने के पथ में कई विघ्न-बाधाएं भी हैं। उन विघ्न बाधाओं को दूर करने के लिए हमारा  विनम्र प्रयोग ही  यह महामण्डल है।  
तब भाइयों , मेरे युवा भाइयों; वे युवा जो यहाँ आये हैं, जो इस प्रशिक्षण शिविर में भाग ले रहे हैं, या अभी भी इतने लम्बे समय से यहाँ बैठ कर शांति के साथ इस ' हॉक वर्ड्स टाक्स' -एक फेरी लगाकर किसी माल को बेचने वालों की पुकार जैसे प्रतीत होने वाले एक ही 'बाज (भुशुण्डी -गरुड़)- शब्द-वार्ता' को सुन रहे हैं। मैं तुमसे अनुरोध करता हूँ, मैं तुमसे प्रार्थना भी करता हूँ, तुम सभी प्रकार की व्यस्ततताओं के बीच रहते हुए भी, अपनी सुविधा के अनुसार कुछ समय स्वामी विवेकानन्द का अध्यन करने के लिये अवश्य निकालो!
ताकि तुम स्वयं, नसों को बेचैन बना देने वाली उस दर्द की छटपटाहट को पहचान सको जो आत्मा को नष्ट करने से उत्पन्न होता है। ताकि तुम उनके आशीर्वाद को प्राप्त कर सको, उनका आशीर्वाद हमें नए भारत का निर्माण करने के लिये आगे बढ़ते रहने के लिये अनुप्रेरित करता है। उनका आशीर्वाद हमारे इस 'विश्व-विजय अभियान की गति' को सशक्त बना देती है, तभी जगत भारत का अनुकरण करने लगेगा, और यही है विश्व-पटल पर भारत का उदय ! 

'विश्व को भारत (आर्य ?) बनाना चाहिये !' - युद्ध करके नहीं, बमबारी करके नहीं, बल्कि प्रेम की शक्ति से। वे लोग अभी भी प्रायः जंगली पशु के समान जीवन जी रहे हैं। पशु लोग एक विशिष्ट प्रकार के फ़ैशन-आचरण में जीवन बिताते हैं। हम सभी को पता है, वे अपना जीवन किस प्रकार इन्द्रिय भोगों को तुष्ट करने में बिता देते हैं। अतः कमसे कम हमें, जरूर पशु नहीं बनना चाहिये। युवाओं के चिंतन के रुझान को उच्च विचारों से इतना अधिक अभिसिंचित कर दिया जाय कि, उनके चिंतन का प्रवाह 'प्रेय' की दिशा से 'श्रेय' की ओर मुड़ जाये ! और देवदुर्लभ मानव-मन और मानव-शरीर प्राप्त करने बाद, उसके द्वारा इन्द्रिय-जीवन का सुख भोगने की उनकी लालसा ही मस्तिष्क से  निकल जाये, उनमें विवेक-जाग्रत हो सके कि - ' नहीं यह हमारा काम नहीं; यह तो पशुओं का काम है !' और उनके बीच से कम से कम १०० युवा बाहर निकल आयें और घोषणा कर दें -" हम आज से ही चरम अनुपयोगी इच्छाओं (आहार-निद्रा-भय-मैथुन) को मन से त्याग देते हैं "। महामण्डल ऐसे ही विचारों को लेकर स्थापित किया गया है, और जैसा कि आप जानते हैं, सम्पूर्ण भारत में इसके ३३० से भी अधिक केन्द्र हैं।

इसलिये मेरा आपसे अनुरोध और आग्रह है कि आप सभी युवा लोग हिन्दी भाषा में -१० खण्डों में उपलब्ध 'विवेकानन्द साहित्य' का सविस्तार, गहराई से अध्यन करें ! तो देखेंगे कि धीरे धीरे आप अपनी अन्तर्निहित पूर्णता (अव्यक्त ब्रह्मत्व या डिविनिटी) को प्रकाशित करने की दिशा में अग्रसर हो चुके हैं! यदि कोई  व्यक्ति इस पृथ्वी पर सच्चे आनन्द का जीवन, पूर्णत्व-प्राप्ति की सन्तुष्टि से भरा हुआ जीवन प्राप्त करना चाहता है, और उसके लिये इस जगत में किसी एक ही पुस्तक को निर्धारित करने (prescribed) की बात हो, तो उसे कहना होगा-'स्वामी विवेकानन्द को पढ़ो !' अन्य किसी की, इसकी या उसकी लिखी पुस्तकों को पढ़ने की कोई जरुरत नहीं है, पुस्तकों में तो इधर-उधर की ढेरों बातें भरी हुई हैं। और कई पुस्तकें तो बाजार में ऐसी हैं, जिसने हजारों युवाओं के जीवन को नष्ट कर दिया है। इस सच्चाई से आप सभी लोग परिचित हैं। लेकिन शायद ही कभी लोग (राजनितिक नेता, इलेक्ट्रॉनिक मिडिया या प्रिंट मिडिया ) युवाओं को ऐसी पुस्तकों से परहेज करने की सलाह देते हैं !

किन्तु किसी तरह हमारे सौभाग्य से, हमारे बचपन में ही  हमें यह समझा दिया गया था कि अंग्रेजी-उपन्यास, या कथा-कहानियों की विभिन्न पुस्तकें आदि को पढ़ना अच्छी बात नहीं है। क्योंकि उसके माध्यम से तुम्हारे मन में कुछ ऐसी चीजें प्रविष्ट हो जाएँगी, जो उन्हें गलत चिंतन से इस प्रकार भर देगी, जिसे मनुष्य जीवन के लिए उचित आचार-व्यवहार में उपयोगी कदापि नहीं कहा जा सकता। अतः भाइयों, मैं नहीं जानता कि ऐसी बातें मेरे मन क्यों उठ रही हैं ! जैसा मैंने आग्रह किया था, मैं पुनः तुमसे यह अनुरोध करना चाहता हूँ, कि  - ' विवेकानन्द साहित्य का अध्यन करो ! ' दुनिया में और किसी चीज की जरूरत नहीं है। एक ठोस जीवन का निर्माण करो, ऐसे मानव-जीवन का निर्माण करो, जो सभी के कल्याण के लिए हो, और पूरा जीवन इसी कार्य में व्यतीत करो।

बहुत वर्षों से मैं इसी प्रकार का जीवन व्यतीत करता चला आ रहा हूँ, और शायद अब वह समय आ चुका है, 'व्हेन आइ मीट ऐन इंड ' जब मुझे (इस 'जीवन नदी के)  'दूसरे छोर' से मिल जाना पड़े; किन्तु  इसमें उदास या शोकाकुल होने जैसी कोई बात नहीं !  इस शरीर को छोड़ने के बाद, यदि वहाँ स्वामी जी और ठाकुर से मिलने का  कोई  मौका मिला, तो क्या हम उन्हें यह बताने में सक्षम हैं कि -" मैंने आपके निर्देशों का पालन करने की कोशिश की थी, और मैं बहुत खुश हूँ कि मैं अपने आप को पृथ्वी पर धूल-मिट्टी या गंदी के चीजों नीचे  नहीं रख आया हूँ ! मैं मुक्त हूँ, मैं मुक्त हूँ, मैं मुक्त हूँ! " भाइयों, तुम्हारे पास तो पर्याप्त समय है, यदि तुम चाहो, तुम्हारा जीवन प्रकाशमान (दैदीप्यमान) हो उठेगा, यह केवल तुम्हें ही उन्नत मनुष्य में परिणत नहीं करेगा, बल्कि तुम्हारा जीवन इतना आलोकित हो जायेगा कि, जिसके द्वारा हमलोग अनेकानेक युवाओं की सेवा करने, और समाज के अभिशाप से उनको बचा लेने में सक्षम हो जायेंगे। ताकि वे लोग भी एक सच्चा जीवन जी सकें और निधन से पहले ही उसके वास्तविक आनन्द का अनुभव कर सकें।
 यदि मैं गुजर गया,  मुझे पता है, मेरे निधन के बाद क्या हमलोग थोड़े ही वर्षों तक सही इन बातों का स्मरण रखने में सक्षम हो पाएंगे, और  जिन्होंने पहले इस दुनिया को छोड़ दिया है, उन लोगों को बतायेंगे, -" आप देखिये, जब मैं पृथ्वी पर था, किसी न किसी प्रकार इन्हीं हाथों के माध्यम से -एक युवा संगठन प्रतिष्ठित हुआ था, जहाँ सैंकड़ो युवक प्रशिक्षित और लाभान्वित हुए थे, और उनकी जीवन-शैली बहुत उन्नत थी।  साधारण लोगो की तरह नहीं, जो बस केवल ऐय्याशी या इन्द्रिय-सुख का ही भोग करने में रचे-पचे रहते हैं, वैसा कोई सुख नहीं, वैसा जीवन नहीं,बल्कि एक ऐसा जीवन गठित किये थे, जिस के साथ उसका एक उच्चतर  उद्देश्य भी जुड़ा हुआ था।"
यदि कोई ईश्वर सचमुच कहीं हों, आइये हम सभी उस भगवान से प्रार्थना करें, यदि तुम ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास नहीं भी करते हो, तो भी तुम यह नहीं कह सकते कि श्रीरामकृष्ण का कभी जन्म नहीं हुआ था, या स्वामी विवेकानन्द का कभी जन्म नहीं हुआ होगा? श्रीरामकृष्ण का जन्म हुआ था, स्वामी विवेकानन्द का जन्म हुआ था, और मैंने देखा है, मैं एक ऐसे व्यक्ति से मिला हूँ, उससे बातें की हैं, जिनके सम्बन्ध में मैं कह सकता हूँ, कि वे श्रीरामकृष्ण के साथ रहते थे, वे स्वामी विवेकानन्द के साथ रहते थे !
इसीलिये यह युग  --एक नए युग की शुरुआत है। जहाँ सभी छात्रों को जीवन के सम्बन्ध में एक समग्र दृष्टिकोण प्राप्त होगा , अपनी इन्द्रियों के माध्यम से विभिन्न विषयों के भोगों का सुख भोगना इस मनुष्य- जीवन का उद्देश्य नहीं हो सकता, बल्कि पृथ्वी की उस सुंदरता का आनन्द लेंगे -जहाँ मनुष्य शरीर में जन्म लेने के बाद मनुष्य उस सर्वोत्तम आनन्द का चयन कर सकता है, जो उसे देवमानव में उन्नत कर देता है, और उन्हें आने वाली पीढ़ियाँ भी उन्हें केवल इसी लिए याद करतीं हैं, कि उन्होंने अपने समय के युवाओं को मनुष्य बनने में सहायता की थी, ताकि वे अपने जीवन का निर्माण कर सकें, जीवन को नष्ट होने बचा सकें। 
आओ हम सभी ठाकुर श्रीरामकृष्ण, जगतजननी माँ सारदा देवी, और स्वामी विवेकानन्द से प्रार्थना करें कि वे हमलोगों को वह शक्ति प्रदान करें जिससे हम स्वयं को जगत की क्षणभंगुर चीजों से ऊपर उठा सकें। दुनिया की क्षणभंगुर वस्तुएं नशे की चीज जैसी हैं,हमें उसकी आवश्यकता नहीं है। जीवन में पाने के लिये इतनी बड़ा लक्ष्य हमारे सामने है, (प्रत्येक मनुष्य में इन्द्रियातीत सत्य को जानने की सम्भावना है !) और हमने इसी लक्ष्य को चुन लिया है ! और  कम से कम दिल ही दिल में हम जानते हैं कि हमने सबसे कठिन लक्ष्य को चुना है, इसीलिये हमारी ऑंखें दुनिया की रंगीनियों से अंधी नहीं हो सकती। विलासिता की उन वस्तुओं से, जो विभिन्न प्रकार से हमारी शारीरिक और मानसिक शक्तियों का हरण करती हों, हमें अपना ध्यान बस हटा लेना है ! हमारा एक मात्र उद्देश्य भगवान को (इन्द्रियातीत सत्य को) जान लेना है! 
मैं सोचता हूँ, और शायद बहुत गलत नहीं हूँ, कि वैसे मनुष्य आज भी हैं, वे चाहे जहाँ कहीं भी रहते हों, किसी जंगल में या किसी अज्ञात गाँव में, या जगत के किसी भी हिस्से में रहते हों, उनकी सद्भावना की समग्रता भारत के भाग्य - जगत के बंधनों से मुक्ति के लिये ( 'पशुमानव को देवमानव में रूपान्तरित करने ' के लिए) अब भी क्रियाशील हैं, तथा आखरी साँस छोड़ने के पहले हममें से सभी लोग अवश्य आनन्दपूर्ण होंगे ! नमस्कार !
=========
[झुमरी तिलैया, झारखण्ड में आयोजित तृतीय अन्तर्राज्य स्तर शिविर में 4 अक्टूबर 2015 को महामंडल के अध्यक्ष द्वारा अंग्रेजी में दिये गए भाषण का हिन्दी अनुवाद। The speech delivered by sri Nabaniharan Mukhopadhyay, president of Akhil Bharat Vivekananda Yuva Mahamandal as the chief guest on the occasion of farewell session of 3rd Inter-state youth training camp at Jhumritelaiya.]

    ॐ भद्रं कर्णेभिः श्रुणुयाम देवाः।
    भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः ।
    स्थिरैरन्ङ्गैस्तुष्टुवागं सस्तनूभिः।
    व्यशेम देवहितम् यदायुः ।
    स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः।
    स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
    स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः।
    स्वस्ति नो ब्रिहस्पतिर्दधातु ॥
    ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

बहुत धैर्य के साथ देख रहे हैं, जो प्रोग्राम चलता है। जब इस विदाई सत्र की शुरुआत हुई थी तब सूर्यदेव भू-पृष्ठ के ऊपर थे। पानी से बहुत ऊपर में। और अब कितना समय हुआ -साढ़े आठ हो रहा है। अभी तक जो सुने हैं, उसमें स्वामीजी के बारे में स्वामीजी के पास से सीखने की क्या चीज है उसका एक कण भी हमको सीखने को मिला ? हमको तो देखने को नहीं मिला। चला, सब कुछ चलता है, लेकिन स्वामीजी कहाँ हैं ? बिल्कुल एब्सेंट। Absolutely, Swamiji is absent. Betweens we would not have sufficient love and regard for the person in whose name our All India organization is running for quite long time and long years. This is very sad thing. Man will not survive by singing and dancing. This is very good, no doubt dancing is sometime very good but only sometime. हमारी जो जरूरत है, वह है थोड़ा स्वामीजी को समझने की कोशिश करना।  We should resolve very seriously that at least somehow on we shall spend at least a few years reading and contemplating on the same of Swami Vivekananda with all our heart, mind and soul. It has become a fashion now a days to tell people a sort of people that we are near to Swami Vivekananda. No, not so. I had the fortune to live with people who passed long years with Swami Vivekananda. It was not my luck to go near to Swami Vivekananda because I was too young. But some people spend a lot of hours with Swami Vivekananda. Not once but again and again. Such people I could sit and listen to their thought on swami Vivekananda and Sri Ramakrishna Dev. That is how without understanding or understanding very little, who is Sri
Ramakrishna, who is Swami Vivekananda? In India, we are in our all texts,
Hindu, Muslim, Sanskrit there was, there is Mahapurushas, so many, but
perhaps been not be wrong to say that seldom of powers one came like Sri
Ramakrishna and Swami Vivekananda. It is my fortune to meet some people
who had seen them. Who had think about it? It is not just a fun! The Mahamandal
was formed in three hundred and thirty centers throughout India which other
organisation accepting political parties who have just 330. No, there is no
organization except political parties. What do we get from Swami Vivekananda?
What would we get from Sri Ramakrishna? The message that we don’t find in
scriptures. Sri Ramakrishna was God himself. Swami Vivekananda was no less.
If you want to form any idea of godliness or the kind of person god is, we have
this is easy way to try to move through Sri Ramakrishna and Swami
Vivekananda. That is why they have known as AVATARAS. When Avataras in
human bodies found in our books, they vanished, they go away from the soil of
the world. But if we try, we can realize then in their full form. Today even, mine,
anybody who has belief, who have there is no touch or possibility of diluting the
godliness then Sri Ramakrishna and Swami Vivekananda had. So now, let us
actually, there is no need of having many deities and many pujas.क्या नहीं है ? सरस्वती पूजा से लेकर लक्ष्मी पूजा, काली पूजा, दुर्गा पूजा चला।  चलता है चलता है। इतने पूजा की जरूरत नहीं है। इसलिए युग युग में एक नया युग आया। जो पूर्व काल में था उसे इस युग के आदमी सब लोग बोलना शुरू करते हैं। They vanished from the memory and they wait for someone. Some new one in apostle but apostles are not so simple things that it can be had just by wishing to have one. It isn’t possible. So we have to go back to Swami Vivekananda and we are very proud that we had luck to know and live with a person who had seen  and talked to Sri Ramakrishna, who had seen and talked to Swami Vivekananda. It is my belief without any shed of questioning that only through listening to about Sri Ramakrishna and Swami Vivekananda through lowest old people, a love and adoration and puja bhav. मन में आया था। कम नहीं है किसी से बात तो कर रहे हैं, जिनकी बात स्वामीजी से हुई है। कम नहीं है किसी एक ऐसे आदमी को देखना जो श्रीरामकृष्ण का दर्शन किये हैं ! उनके चरणों का स्पर्श किये हैं ! उनके पैर की धूलि लेकर अपने सिर पर रखे सके।  And to make a pram to such a person itself elevates anyone spiritually, the high order and I am proud that I had a bit of such experience otherwise perhaps, I could not be at the helm of this Akhil Bharat Vivekananda Yuva Mahamandal. It isn’t a club. It is not an organization like social service
organization. It is something more. I should say and demand and declare that it is a 100% religious organization. What is meaning of religion? इसको डिस्पर्स करने से क्या होता है ? Re-Le-gar means rejoining. We have separated ourselves foolishly. With the pumpen power and plunder of the sense feelings while on the earth. But they can only save our soul. They can only lead us to higher level from
bare will not be able to touch anything which is soiled with the touch of the earth had man are nothing but a developed and a little purified or mannerism or some beasts. Men are also beast but curious beasts who have said capacity of
reasoning. Who doesn’t accept anything whatever is given it to swallow. It
doesn’t swallow without examining. I had told you. I had occasion to see and
talked to persons who had the opportunity and very good luck of meeting and
talking to Sri Ramakrishna and Swami Vivekananda. Where do we stand ?
Mahamandal is in the name of of Swami Vivekananda, why? The most active in
the worldly live to person who laid down his life for elevating humanity. He
elevated humanity himself in this wholeness. So If with such a vision, such a
belief, if we go to Swami Vivekananda, we will read more exceeding more and
which will satisfy our heart, soul and dry up ear drop in our eyes. Where do we
stand brothers? Mahamandal is not just a juvenile organization to have football,
cricket, etc. playing and then proceeding a little more, a little dramatic occasions.
Dramas are very favorite among young people, but they also steal the real power of young people. We did not have the real opportunity of seeing film, cinema or theatre till we went to college or finished our college life. Schools and colleges, never. We have never sorry for admitting something. So there is no end of discussing such things. So I would only request brothers who have assembled here for camp and I hope they would try to pick up as far as possible the teachings that came during the programs and talks in the camp. We have to lift ourselves from the dazzling light of society which makes us blind about the
storehouse of the greatest ideals of human life and to bring youths to this Swami Vivekananda taught  who was tutor. Sri Ramakrishna came to make a gift to the world and he didn’t find any other place than India, than Bengal, than Calcutta to give these precious things to humanity. In Calcutta, he gave it to Swami Vivekananda. So our work is to try to understand Swami Vivekananda and mold our character, remold our life with the soul that we got from his talks. So that we can build a new India, our work will be to build new India! We are no more satisfied with this throttled India of long past.  We have to build a new India. So brothers, I have perhaps detained you unnecessary for very long time, but to do, I have got so many young people which so many things trying up to be obstruct them from a path that is very good for human life and my humble trial that is further purpose on live this Mahamandal was built that the youths are led a way by other things, fleshy things that young people like so much. So brothers, young brothers! Those who have come here those are attending this camp or still sitting here or staying here to hear this hawk words talks long one itself. So I request you, I pray you too as you like to keep sometime study Swami Vivekananda to find out the jittery of pain that shatter the soul, get his blessings are to go forward to build a new India, the pace empowered the world should then can be copied and that is India rising in the world. दुनिया को भारत बनाना चाहिए।  Not by fighting, not by bombing, but by love. There still living in state almost a beastly life. Almost a beastly life. Beasts live is particular fashion. we all know lives. So we must not be beast at least among the young people, if there is a thought and young people at least a hundred may come out and say that we will not go today extreme of disused desires. Their brains, their longings for enjoying the human life, human body and human mind. No, that is not the work. Mahamandal is founded with this Idea and there are now as you know three hundred thirty centers throughout India! 330! So my request to you and appeal to you that you go through the works of Swami Vivekananda fully. Gradually you can proceed if there ia one book of this world which may be prescribed for anybody who wants to have a life of real joy, satisfaction of fulfillment, read Swami Vivekananda.  Not this, that, So many things are there. And many books spoiled so many thousands of youths. It is known by all. But seldom people desist young men from these things. In our childhood luckily we were somehow made to understand that it is not good to read novels or many books of stories because through them, certain things will come and feel you brother which will not be given for the purpose of making worthy of living. So brothers, I don’t know why these things came to my mind. I want to request you to try as I request you to study Swami Vivekananda. दुनियां में और किसी चीज की जरुरत नहीं है। Read Swami Vivekananda. Build a solid life, human life that for the good of all, for the good of society and pass away. I have lived this way for a long time, and perhaps a time has come when I away meet an end, there is nothing to be sorry.  Are we able to tell Thakur, Swamiji, after leaving the body, there is any chance to meet them, that I had tried to follow your instructions and I am very happy that I have not kept myself under the soil and dumpy things on the earth, I am free, I am free, I am free. Brothers there is enough time with you, if you like, your life will be luminous, it will not only lift you up but will give you lighten up with which we will be able to serve many many many young men and save them from the curses of the society. So that they can have a real life and enjoy it before passing away. If pass away, After my
passing away, I know, are we able to remember these things, at least for some
time and tell those who have already left the world and you see when I was on
the earth, I had somehow through my hands an organization of youth came up
and there hundreds of youths of India, they benefited ad they had an elevated life style. Not like the ordinary, just enjoying life, not enjoying life, not enjoying flesh but life as a higher purpose with it. Let us all pray to God if there any, if you don’t believe on the existence of God, we can’t say that Sri Ramakrishna was never born, Swami Vivekananda was never born. Sri Ramakrishna was born, Swami Vivekananda was born and I have seen, I have made, I talked to a persons who had I may say, lived with Sri Ramakrishna, lived with Swami Vivekananda. So this is the beginning of age! The beginning of new age where the students will have all together life view, not enjoying the life through their senses of various kinds, but enjoying the beauty of the earth that man can choose the best which lifts them up and they are remembered by posterity for the help to the young people of his times so that they can build their lives not aloof it to go away wastes. 
Come! Let us all, pray to Thakur, Sri Ramakrishna, all pray to holy mother,
Maa Sarada Devi and Swami Vivekananda to give us that capacity the power of
lifting ourselves from the dearth of the world. Not the dearth of the world  is what we need are must hemp for. There is such a big thing to get in life and we have chosen it ia all say at least in heart that we have chosen the most difficult thing, we will not be blinded by the colours of the world. Simply try our attention  to the luxuries. To the physical and mental evection in various ways. Our only purpose is to know God and there are such men even today they are such many even today and I think perhaps, I am not very wrong that the totality of their goodwill wherever they may live, in the forest or in unknown villages, in some parts of the world. They are working for the destiny, for the delivery from the bondage of the world and we will be happy before we breathe last! नमस्कार ! 

=========

No comments: