Sunday, January 23, 2011

ईश्वरचन्द्र विद्यासागर कृत वर्ण-परिचय

वर्ण-परिचय 
स्वामी विवेकानन्द भारत का भविष्य नामक भाषण में कहते हैं- " शिक्षा का मतलब यह नहीं है कि तुम्हारे दिमाग में ऐसी बहुत सी बातें इस तरह ठूँस दी जाएँ कि मन में अन्तर्द्वन्द्व चलने लगे, और तुम्हारा दिमाग उन्हें जीवन भर पचा न सके.  जिस शिक्षा से हम अपना जीवन निर्माण कर सकें, मनुष्य बन सकें, चरित्र गठन कर सकें और उसमे निहित भावों को आत्मसात कर सकें, वही वास्तव में शिक्षा कहलाने योग्य है. यदि तुम पाँच ही भावों को पचाकर तदनुसार जीवन और चरित्र गठित कर सके हो, तो तुम्हारी शिक्षा उस आदमी कि अपेक्षा बहुत अधिक है, जिसने एक पूरे पुस्तकालय को कंठस्त कर रखा है...यदि बहुत तरह की तथ्यों का संचय करना ही शिक्षा है, तब तो ये पुस्तकालय संसार में सर्वश्रेष्ठ मुनी हैं और विश्वकोष ही ऋषि हैं !"(५:१९५)  
बचपन में जब हमलोग वर्ण-परिचय की छोटी सी पुस्तिका से - क,ख,ग,य़ा अ,आ,इ,ई से पढ़ाई शुरू करते हैं, तब पहले दो अक्षर के शब्द को लिख कर, उसका उच्चारण करना सीखते हैं. फिर तीन अक्षर के शब्द को लिखना और पढना सीखते हैं; क्रमशः हमें छोटे छोटे वाक्यों की लिखना और उसका reading करना सिखया जाता हैबंगाल के बच्चों को ईश्वरचन्द्र विद्यासागर द्वारा लिखित वाक्य-विन्यास की पुस्तिका से पढ़ाई शुरू की जाती है. उनकी पुस्तिका में छोटे-छोटे वाक्यों में जो महत भाव दिये गये हैं, यदि उनमें निहित भावों को, उनके माता-पिता य़ा शिक्षक, आत्मसात कर लेने को इस प्रकार अनुप्रेरित करें, कि वे भाव उनके रक्त में मिल कर उनकी नस-नाड़ियों में संचारित होने लगे, तब इसी को भावों का आत्मसातीकरण कहते हैं. 
यदि सम्पूर्ण भारत के बच्चों को, मन को एकाग्र करने का प्रशिक्षण देने के साथ साथ, ईश्वरचन्द्र विद्यासागर द्वारा बंगला में रचित वर्ण-परिचय पुस्तिका का हिन्दी अनुवाद कर, बचपन से ही उसमे निहित भावों को, आत्मसात करने की शिक्षा दी जाय , तथा केवल निम्न लिखित १० पाठ को ही आत्मसात करवा दिया जाये, तो भारत आज इतने बड़े पैमाने पर जिस भ्रष्टाचार की समस्या से जूझ रहा है, क्रमशः यह बिल्कुल मिट जाएगी
आइये हमलोग देखते हैं कि ईश्वर चन्द्र विद्यासागर बच्चों को शिक्षा देने के लिये, उनके माता-पिता तथा गुरु से बचपन में ही किन वाक्यों का Reading का अभ्यास कराकर उनका चरित्रगठन करने को प्रेरित करते हैं। 
 प्रथम पाठ
१. कभी किसी को कटु-वचन मत कहना. कटु-वचन बोलना बहुत बड़ा दोष है। जो कड़वी बोली बोलता है, कोई उसको देखना भी पसन्द नहीं करता।

२. सदा सत्य बोलना चाहिये। जो सत्य बोलता है, सभी लोग उससे प्रेम करते हैं। जो झूठ बोलता है, कोई उसको प्यार नहीं करता, सभी उससे घृणा करते हैं। तुम कभी झूठ मत बोलना।

३. बचपन में, मन लगा कर पढना-लिखना सीखो।पढना-लिखना सीखने से सभी लोग तुमको प्यार करेंगे। जो पढने-लिखने में आलस्य करता है, कोई उसको प्यार नहीं करता। तुम कभी लिखने-पढने में आलस्य मत करना।

४. प्रतिदिन जो पढ़ाई करोगे, उसका अभ्यास (होम-वर्क) भी उसी दिन करना। कल कर लूँगा- ऐसा सोंच कर कल पर मत टालना।जिस पाठ को कल पर टाल दोगे, उसका अभ्यास फिर नहीं कर सकोगे।

५.कभी माता पिता की आज्ञा की अवहेलना मत करना। वे जिस समय जो आज्ञा दें, उस समय वही काम करना। कभी उनके आदेश की अवहेलना मत करना. माता पिता की बात नहीं मानोगे, तो वे तुमको प्यार नहीं करेंगे।

६. अबोध बालक, पढने-लिखने में अपना मन नहीं लगाते,सारा दिन खेल-कूद में ही बीता देते हैं। इसीलिये वे हमेशा दुःख पाते हैं। जो बच्चे मन लगा कर पढना-लिखना सीखते हैं, वे हमेशा सुख से रहते हैं।
२रा पाठ 
१. बिना परीश्रम किये, पढ़ाई-लिखाई नहीं होती. जो बच्चा परिश्रम करता है, वही पढना-लिखना सीख सकता है. परीश्रम (मेहनत) करो, तुम भी पढना-लिखना सीख जाओगे.

२. जो बच्चा प्रतिदिन, मन लगा कर, पढना-लिखना सीखता है, वह सबों का प्रिय होता है. तुम प्रतिदिन मन लगा कर लिखना-पढना सीखो, सभी लोग तुमको प्यार करेंगे.

३. जिस समय पढ़ाई करने बैठोगे, मन को अन्य किसी विषय में- मत जाने देना. मन यदि दूसरे विषयों में चला जायेगा, तो शीघ्रता से अभ्यास नहीं कर पाओगे; अधिक दिनों तक याद भी नहीं रहेगा; पाठ सुनाने के समय, ठीक से बोल नहीं पाओगे.

४. कभी किसी के साथ झगड़ा मत करना. झगड़ालू होना बहुत बड़ा दोष है.जो हमेशा सबों के साथ झगड़ता रहता है, कोई उसका मित्र नहीं होता. सभी उसके शत्रू बन जाते हैं. 

५. दूसरों के द्रव्य पर हाथ मत लगाना. बिना बताये दूसरे की कोई वस्तु ले लेने को चोरी करना कहते हैं. चोरी करना बहुत बड़ा दोष है. जो चोरी करता है, चोर समझ कर सभी उससे घृणा करते हैं.चोर के ऊपर कोई कभी विश्वास नहीं करता. 

६. जो चोरी करता है, झूठ बोलता है, झगड़ा करता है, दूसरों को गाली-गलौज देता है, मारा-पीटी करता है, उसको असभ्य (जंगली) कहते हैं. तुम कभी असभ्य मत होना; जंगली लडकों की संगत में मत रहना. यदि तुम असभ्य बन जाओगे, य़ा अभद्र लडकों की संगति में रहोगे, कोई तुमको अपने निकट बैठने नहीं देगा, तुम्हारे साथ बात-चीत नहीं करेगा, सभी तुमसे घृणा करेंगे.
३रा पाठ 
१. सुशील बालक  माता पिता से बहुत प्यार करता है. वे जो भी उपदेश देते हैं, उनके उपदेशों को, वह सदा याद रखता है, उन्हें कभी नहीं भूलता. वे जिस समय जो काम करने को कहते हैं, वह तुरन्त उनकी आज्ञा का पालन करता है; जिस काम को करने से मना करते हैं, उस काम को कभी नहीं करता.

२. वह मन लगा कर पढ़ता-लिखता है, पढ़ाई की कभी उपेक्षा नहीं करता. वह हर समय सोचता है,कि यदि पढना-लिखना न सीखेंगे, तो हमेशा दुःख भोगना होगा.

३. वह अपने भाई और बहन से बहुत प्यार करता है, कभी उनके साथ झगड़ा नहीं करता, उनके ऊपर कभी हाथ नहीं उठाता. खाने की कोई भी वस्तु मिलने से, अकेले नहीं खाता, उनलोगों को देने के बाद ही खाता है.

४. वह कभी झूठ नहीं बोलता. वह जानता है, जो लोग झूठ बोलते हैं, कोई उनसे प्यार नहीं करता, कोई उनकी बात पर विश्वास नहीं करता, सभी वैसे लोगों से घृणा करते हैं. 

५. वह कभी कोई गलत काम नहीं करता. यदि कभी उससे कोई भूल हो भी जाति है,और उसके माता पिता उसे डांटते हैं,तो वह क्रोध नहीं करता. वह यही सोचता है, कि गलत काम किया था, इसीलिये माँ-पिताजी ने डांट लगाई है, अब आगे से वैसा काम कभी नहीं करूंगा. 

६. वह कभी किसी से कटु-वचन नहीं बोलता, कभी अशिष्ट भाषा में गाली-गलौज नहीं करता.  किसी के साथ झगड़ा य़ा मार-पीट नहीं करता, जिस काम से किसी को क्लेश पहुँचता हो, वैसे काम कभी नहीं करता.

७. वह कभी दूसरे कि वस्तु को हाथ नहीं लगाता. वह जानता है,कि बिना बताये दूसरों की कोई वस्तु ले लेने को- चोरी कहते हैं. चोरी करना बहुत बड़ा दोष है, जो लोग चोरी करते हैं सभी उनलोगों से घृणा करते हैं.

८. वह अपना समय आलस्य में, कभी नहीं बिताता है. जिस समय जो काम करना जरुरी है, उस समय उसी काम को,वह पूरा मन लगा कर करता है. वह पढने-लिखने के समय, पढ़ाई-लिखाई छोड़ कर, कभी खेलने नहीं जाता.

९. वह कभी दुश्चरित्र लडकों की संगति में नहीं रहता है, उनके साथ खेलने के लिये कहीं नहीं जाता है.वह जानता है, कि बुरे-चरित्र वाले लडकों के साथ खेलने य़ा घूमने-फिरने से, मैं भी दुश्चरित्र बन जाऊंगा. 

१०. वह जब विद्यालय में रहता है, उस समय शिक्षक महोदय जो भी आज्ञा देते हैं, वह उसे बड़े प्रफुल्ल मन से करता है. वह कभी उनकी आज्ञा का उलंघन नहीं करता है, इसीलिये वे उसको प्यार करते हैं. 
          ४था पाठ
चंचल नाम का एक लड़का था, उसकी आयू आठ वर्ष थी. चंचल के पिता उसको प्रतिदिन विद्यालय भेजते थे. किन्तु चंचल लिखने-पढने में मन नहीं लगाता था. वह, एक भी दिन विद्यालय नहीं जाता था, गली-कुँचो में खेलता रहता था. 

विद्यालय से छुट्टी होने पर, जब सभी लड़के घर जाते थे, चंचल भी उसी समय घर पहुँच जाता था. उसके माता पिता सोचते थे, चंचल विद्यालय से लिखना-पढना सीख कर घर आया है. इस प्रकार वह प्रतिदिन अपने माँ बाप को धोखा दिया करता था.

एक दिन चंचल ने देखा, कि भुवन नामक एक बालक पढने जा रहा है. वह उससे बोला, भुवन, आज तुम पाठशाला मत जाओ. आओ दोनों मिलकर यहाँ खेलते हैं. पाठशाला से छुट्टी होने पर, जब सभी लड़के घर जायेंगे, हमलोग भी उसी समय घर चले जायेंगे. 

भुवन ने कहा, नहीं भाई, मैं नहीं खेलूँगा. सारा दिन खेलते रहने से, पढ़ाई तो नहीं हो सकेगी. कल पाठशाला जाने से शिक्षक महोदय की डांट खानी होगी, और यदि पिताजी ने सुन लिय़ा, तो बहुत गुस्सा करेंगे. मैं अब और देरी नहीं करूँगा, मैं पाठशाला जा रहा हूँ. ऐसा कह कर भुवन चला गया. 

और एक दिन, चंचल ने देखा, अभय नामक एक बालक पढने जा रहा है. उसने उससे कहा, अभय, आज पढने मत जाओ. आओ दोनों मिल कर खेलते हैं. अभय ने कहा, नहीं भाई, तुम बहुत बुरे  लड़के हो, तुम एक भी दिन पढने के विद्यालय नहीं जाते. तुम्हारे साथ खेलने से, तो मैं भी खराब हो जाऊंगा. तुम्हारी तरह गली-कूंचों में खेलते रहने से, कुछ भी लिखना-पढना नहीं सीख पाउँगा. कल ही गुरु महाशय ने कहा है, बचपन में मन लगा कर पढ़ाई-लिखाई नहीं करने से, हमेशा दुःख भोगना पड़ता है. 

यह कह कर, जब वह चलने को हुआ, तब चंचल खींच-तीर करने लगा. अभय, उससे अपना हाथ छुड़ा कर, चला गया. जाते समय उसने कहा, आज मैं गुरु महाशय से तुम्हारी सारी बातें कह दूंगा. अभय विद्यालय पहुंचकर, गुरु महोदय को, चंचल की बात कह सुनाई. गुरु महोदय ने चंचल के पिता के पास यह खबर पहुँचा दिया, कि आपका बेटा एक भी दिन पढने नहीं आता है. सारे दिन सडकों पर आवारा लडकों की तरह, घूमता य़ा खेलता रहता है. खुद भी नहीं पढने आता है, और दूसरे बच्चों को भी विद्यालय आने से रोकता है. 

चंचल के पिता ने जब यह सुना, तो बहुत क्रोधित हो गये, उसको बहुत डांट-फटकर लगाये, कोपी-किताब कलम आदि जो भी कुछ खरीद कर दिये थे, सब छीन लिये. उस समय के बाद से, वे उसको प्यार करना छोड़ दिये, अपने निकट आने भी नहीं देते थे, सामने आ जाता, तो भी उसे दुत्कार कर भगा देते थे. 
   ५वाँ पाठ  
        एक लड़का था, जिसका नाम नवीन था. उसकी उम्र नौ वर्ष थी. उसे खेल-कूद करना इतना पसन्द था, कि वह सारा दिन रास्ते-चौराहों पर खेल-कूद मचाता रहता था, एक बार भी पढ़ा-लिखाई की तरफ ध्यान नहीं देता था. 

इसीलिये वह पढने-लिखने में एक दम फिसड्डी था, कुछ भी सीख नहीं पाता था. गुरु महाशय प्रतिदिन उसको डांट-फटकार लगाते थे. डांट खाने के डर से उसने विद्यालय जाना ही छोड़ दिया. एक दिन नवीन ने देखा, एक बालक अध्यन करने के लिये विद्यालय जा रहा है. 

उसने उसको पुकार कर कहा, अरे भाई, आओ, दोनों मिल कर थोड़ी देर खेलते हैं. उसने कहा, मैं पढने जा रहा हूँ, अभी नहीं खेल सकूंगा. यदि पढने के समय खेल-कूद करूंगा, तो पढ़ाई-लिखाई नहीं सीख पाउँगा. पिताजी ने मुझको आदेश दिया है, कि पढने के समय पढना, और खेलने के समय पर ही खेलने जाना.

जिस समय जो करना चाहिये,मैं उस समय वही काम करता हूँ. इसीलिये पिताजी मुझे प्यार करते हैं. मैं उनसे जब भी जो कुछ मांगता हूँ, वे मुझे वही खरीद देते हैं.यदि मैं अभी पढने के बदले तुम्हारे साथ खेलने लगूंगा, तो पिताजी मुझसे प्यार नहीं करेंगे. उन्होंने कहा है, पढ़ाई-लिखाई की उपेक्षा  करके, सारा दिन खेल-कूद करते रहोगे, तो बाद में सारा जीवन दुःख उठाना पड़ेगा.
इसलिए, मैं चला पढ़ाई करने. यह कह कर वह तुरन्त चला गया.

नवीन थोड़ी दूर जाने पर देखा, एक बालक चला जा रहा है. उसको रोक कर पूछा, भाई तुम कहाँ जा रहे हो?उसने कहा, पिताजी ने मुझे बाजार से एक सामान लाने के लिये कहा है. मैं वहीं जा रहा हूँ.  तब नवीन बोला, तुम थोड़ी देर बाद वह सामान लेने जाना,आओ हमलोग अभी मिलकर कुछ मजेदार खेल खेलते हैं.

उस बालक ने कहा, नहीं भाई, इस समय मैं खेल नहीं सकता. पिताजी ने जो कार्य करने को कहा है, पहले मैं उसीको करूँगा. पिताजी ने कहा है, किसी भी काम को टालना ठीक नहीं. मैं काम के समय काम करता हूँ, खेल के समय खेलता हूँ. काम के समय काम न करके यदि खेलने में समय गँवा दोगे, तो हमेशा दुःख पाओगे. मैं किसी भी काम को पूरे मनोयोग पूर्वक करता हूँ. जिस समय जो काम करना प्रयोजनीय है, उस समय वही काम करता हूँ. मैं तुम्हारी बातों में फंस कर, अपने काम की अवहेलना नहीं करूंगा.

यह बात सुन कर, नवीन वहाँ से चला गया. थोड़ी दूर जाने पर एक चरवाहा मिला, उसको देख कर बोला, आओ न भाई दोनों जन मिलकर खेलते हैं. चरवाहे ने कहा, मैं अभी गायों को चराने जा रहा हूँ, इस समय मैं नहीं खेल सकता. यदि खेलने लगूंगा, तो गौओं को, चरा नहीं पाउँगा. मेरे मालिक नाराज हो जायेंगे, और मुझे डांटे-फटकार लगायेंगे. 

मैं अपने काम के समय फाँकी नहीं मार सकता. काम के समय काम करूंगा, खेलने के समय खेलूँगा. मेरे बाबूजी ने एक दिन कहा था, काम के समय काम न कर के, सारा दिन खेलते रहने से, हमेशा दुःख भोगना पड़ता है. तुम अपना रास्ता देखो, इस समय मैं नहीं खेल सकता.

इसप्रकार, तीन लडकों से, क्रमशः  एक समान उत्तर पा कर, नवीन मन ही मन सोचने लगा, सभी लोग काम के समय काम करते हैं. कोई लड़का अपने काम की उपेक्षा करके सारा दिन खेलने में नहीं बीतता. केवल मैं ही सारा दिन, खेल-कूद में समय बीता देता हूँ. सभी कह रहे थे, काम के समय काम नहीं करने से, हमेशा दुःख भोगना पड़ता है.इसीलिये वे सारा दिन खेलने में बर्बाद नहीं करते हैं.

मैं यदि, पढ़ाई-लिखाई के समय, पढना-लिखना छोड़ कर, केवल खेलने में समय बीता दूंगा, तो मुझे भी हमेशा दुःख भोगना होगा. पिताजी अगर जान जायेंगे, तो मुझे प्यार नहीं करेंगे, डांट-फटकार लगायेंगे, हुआ तो पिटाई भी करेंगे, कभी उनसे कुछ मागुंगा, तो देंगे भी नहीं; मैं अब पढ़ाई-लिखाई की उपेक्षा नहीं करूंगा. आज से पढने-लिखने के समय, केवल पढ़ाई ही करूंगा. 

ऐसा विचार करके, उस दिन के बाद से, वह पढ़ाई-लिखाई में मन लगाने लगा. अब वह सारा दिन, खेल-कूद में नहीं बीताता. कुछ ही दिनों में नवीन, बहुत कुछ पढना-लिखना सीख गया. यह देख कर सभी नवीन की प्रशंसा करने लगे. इसप्रकार, पढ़ाई-लिखाई में परिश्रम करने से,  नवीन भी धीरे धीरे कई प्रकार की विद्या सीख गया था.       
६ठा पाठ
  माधव नामका एक लड़का था. इसकी उम्र १० वर्ष थी. उसके पिता ने उसे शिक्षा ग्रहण करने के लिये विद्यालय भेजा था. वह प्रतिदिन विद्यालय जाता था, एवं मन लगा कर पढना-लिखना सीखता था; वह कभी किसी के साथ झगड़ा य़ा मार-पीट नहीं करता था; इसीलिये, सभी लोग उसको प्यार भी करते थे. 

परन्तु केवल इन गुणों के रहने से ही क्या होता है, माधव में एक बहुत बड़ा दोष भी था.उसे दूसरों की चीजें उठा लेना बहुत पसन्द था. मौका मिलते ही, वह किसी दिन किसी लड़के की पुस्तक उठा  लेता, कभी किसी की कलम उठा लेता, तो किसी की कॉपी उठा लेता, किसी दिन किसी लड़के की पेन्सिल-कटर भी ले लेता था. इसीप्रकार, लगभग प्रतिदिन, वह किसी न किसी लड़के की कोई न कोई वस्तु चुरा ही लेता था. 

माधव जिस लड़के का कोई चीज चुरा लेता, वह यदि शिक्षक महाशय के पास जा कर कहता,महाशय,  मेरी अमुक वस्तु किसी ने चोरी कर ली है. किन्तु माधव, चोरी करने के बाद उस वस्तु को इस तरह छुपा देता था, की शिक्षक महाशय बहुत कोशिश करने परभी उसे ढूंढ़ नहीं पाते थे. जब यह पता नहीं चलता, कि चोरी किसने की, तो वे सभी लड़कों को डांट-डपट किया करते थे. 

शिक्षक महोदय से रोज रोज डांट खा कर, कुछ लडकों ने आपस में परामर्श किया, आज से हमलोग सतर्क रह कर यह देखेंगे,कि कौन चोरी करता है ? दो तीन दिन के भीतर ही, उनलोगों ने माधव को पहचान लिया, कि वही चोर है. उसदिन, माधव ने एक लड़के की एक पुस्तक चुरा ली थी. 
शिक्षक महोदय, उसको चोर कह कर बुरा-भला कहने लगे.तब माधव ने कहा, मैंने चुराया नहीं था, भूल से वह पुस्तक मैंने रख लिया था.शिक्षक महाशय ने उस दिन उसको क्षमा कर दिया, और चेतावनी देते हुए कहा, आज के बाद तुम किसी के कोई चीज पर हाथ मत लगाना. माधव ने आश्वासन देते हुए कहा, आज के बाद से मैं   किसी की, कोई वस्तु नहीं लूँगा. 

दो तीन दिनों तक, किसी की कोई वस्तु गुम नहीं हुई. किन्तु बाद में, पुनः, विद्यालय से लडकों की चीजें गायब होने लगीं. माधव, फिर एक बार चोर के रूप में पकड़ा गया.उस बार भी, शिक्षक महाशय ने उसे क्षमा कर दिया, और बहुत समझा-बुझा कर कहा, यदि तुम ने फिर से चोरी की, तो तुमको इस बार विद्यालय से बहिष्कृत कर दूंगा. उसने वादा किया, अब मैं कभी चोरी नहीं करूंगा. ' अब कभी चोरी नहीं करने की प्रतिज्ञा, उसने शिक्षक महाशय के सामने तो कर लिया, किन्तु फिर थोड़े ही दिनों बाद, फिर चोरी किया, और पकड़ा गया, की वही चोर है. 

इसप्रकार बारम्बार चोरी करने के कारण, शिक्षक महाशय ने उसको विद्यालय से बहिष्कृत कर दिया. उसके पिता ने जब यह सारा वृतान्त सुना, तो यथेष्ट डांट-फटकार लगाई और जबर्दस्त पिटाई भी किया.कुछ दिनों बाद, उन्होंने उसको एक दूसरे विद्यालय में पढने भेजा. परन्तु, वह वहाँ भी चोरी करने लगा.उस विद्यालय के शिक्षक महाशय ने, उसको अतिशय फटकार और पिटाई करके वहाँ से निकाल दिया.

यह सब देख सुन कर, उसके पिता के मन में उसके प्रति, बहुत घृणा उत्पन्न हुई.क्रोधित होकर उन्होंने उसको घर से बाहर निकाल दिया.बचपन से ही माधव को चोरी करने की आदत हो गयी थी, इसीलिये वह अपनी उस आदत को छोड़ नहीं सका. क्रमशः, जैसे जैसे वह बड़ा होने लगा, वैसे वैसे उसकी प्रवृत्ति और बढती गयी.

अब वह मौका मिलते ही,किसी के घर में घुस कर चोरी करने लगा. इसीलिये जो भी उसको देखता, वही उससे घृणा करता. कोई उस पर विश्वास नहीं करता था. किसी के घर जाता, तो वे उसको दुत्कार कर भगा देते थे.

माधव के दुःख की सीमा नहीं थी. वह भोजन नहीं मिलने के कारण, पेट की ज्वाला से व्याकुल हो कर रोता हुआ, दरवाजे दरवाजे मारा-मारा फिरता था, फिर भी किसी के मन में उसके प्रति कोई स्नेह य़ा दया नहीं उपजती थी.
७वाँ पाठ
अप्रिय सत्य मत बोलो 
राम एक बहुत सुबोध लड़का है. वह कभी अपने माता-पिता की आज्ञा का उलंघन नहीं करता है. वे जब कभी, राम से कुछ भी करने को कहते हैं,वह उसी समय उसे कर देता है, उनकी आज्ञा के विपरीत वह कुछ भी नहीं करता. वे लोग जिस काम को करने के लिये, एक बार मना कर देते हैं, वह उस काम को फिर कभी नहीं करता.

इसीलिये उसके माता पिता उससे अतिशय प्यार करते हैं. राम अपने भाई-बहनों के प्रति बहुत दयालु है. वह अपने बड़े भाई और बहनों का कहना मानता है, कभी उनलोगों का अनादर नहीं करता, छोटे भाई और छोटी बहनों से बहुत प्यार करता है, कभी उनलोगों को तंग नहीं करता, उनके शरीर पर कभी हाथ नहीं उठाता.

राम अपने जिन समवयस्क (हमउम्र) दोस्तों के साथ खेलता है, वह उन सबों को अपने ही भाइयों जैसा प्यार करता है, कभी उनलोगों के साथ झगड़ा य़ा मारपीट नहीं करता.जैसा व्यवहार करने से वे लोग संतुष्ट हों, वह उनके साथ सदा वैसा ही व्यवहार करता है. जिन कर्मों से वे असंतुष्ट होते हों, वैसा कोई कर्म वह नहीं करता. इसीलिये वे सभी राम से बहुत प्यार करते हैं. राम को देखने से ही वे बहुत आल्हादित हो जाते हैं. 

राम पढने-लिखने में बहुत परिश्रम करता है. वह कभी पढने-लिखने में लापरवाही नहीं करता. वह अपने शिक्षकों की अतिशय भक्ति करता है. वे लोग जब कोई उपदेश देते हैं, वह उन्हें मन लगा कर सुनता है, इसीलिये वह उनके उपदेशों को कभी भूलता.

राम कभी कोई बुरा कर्म नहीं करता. संयोग से कभी भूल हो जाये, तो एक बार मना कर देने पर, दुबारा उस काम को कभी नहीं करता. यदि कभी, उसके माता पिता य़ा शिक्षक कहते है, राम, तुमने बहुत गलत काम किया है; तब वह कहता है, मैंने नासमझी वश कर दिया है, अब कभी वैसा काम नहीं करूंगा, इस बार मुझको क्षमा कर दीजिये. उसके बाद राम वैसा काम दुबारा कभी नहीं करता. 

जिस बात को सुनने से, दूसरों के मन में क्लेश हो, राम वैसी बात कभी किसी से नहीं कहता; वह कभी अप्रिय सत्य नहीं बोलता. किसी काने व्यक्ति को काना, य़ा लंगड़े को लंगड़ा नहीं कहता. काने को काना, और लंगड़े को लंगड़ा कहने से वे बहुत दुखी हो जाते हैं. इसीलिये किसी को इसप्रकार के अशिष्ट शब्द से नहीं बुलाना चाहिये. राम के मुख से, कभी कोई कटू, अप्रिय, य़ा अश्लील शब्द सुन नहीं सकता. 
८वाँ पाठ 
सूसन्तान बनो !
देखो बच्चों, माता-पिता से बढ़ कर इस पृथ्वी पर दूसरा कुछ भी नहीं है.उन लोगों ने कितना कष्ट सह कर, कितने जतन से, पाल-पोष कर तुम्हें बड़ा किया है. वे लोग यदि, उतना कष्ट सह कर, उतने जतन से, तुम्हारा लालन पालन नहीं करते, तो किसी भी हालत में तुम्हारे प्राणों की रक्षा नहीं हो सकती थी. 

वे तुमसे जितना अधिक प्रेम करते हैं, पृथ्वी पर और कोई भी तुमलोगों को उतना प्रेम नहीं करता. क्या करने से तुमलोगों को सुख और आनन्द मिलेगा, वे लोग सर्वदा उसीकी चेष्टा करते हैं. तुम लोगों को प्रसन्न और सुखी देखने से, उनको जितना आनन्द होता है, उतना और किसी को नहीं होता. 

वे लोग तुम्हारे ऊपर जितने दयावान हैं, वैसा और कोई नहीं है. जिस बात से तुमलोगों का मंगल होता हो, उसीके लिये वे लोग सतत कितना प्रयास करते हैं. तुम लोग विद्या अर्जित कर लोगे,तो चिरकाल तक सुख से जीवन बीता सकोगे, इसीलिये उन्होंने तुम्हें पाठशाला भेजा है. तुम लोग जब मन लगा कर पढना-लिखना सीख जाते हो, तो उनको कितनी प्रसन्नता होती है.

वे लोग यदि दया करके, तुमलोगों को भोजन वस्त्र नहीं देते,तो तुम लोगों के दुःख-कष्ट की सीमा नहीं रहती. कोई स्वास्थ्यवर्धक वस्तु मिलने पर, वे लोग स्वयं न खा कर, तुमलोगों को देते हैं. अच्छे वस्त्रों को पहनने से तुम लोग आल्हादित होते हो, इसीलिये वे तुम लोगों को अच्छे अच्छे  वस्त्र खरीद देते हैं. 

तुमलोगों कहीं दर्द होता है, तो उनके मन में कितना कष्ट और कितना दुश्चिंता हो जाती है. तुमलोगों को दर्द से छुटकारा दिलाने के लिये, वे लोग कितना प्रयत्न, कितनी दौड़-धूप करते हैं. जबतक तुमलोग पूर्ण स्वस्थ नहीं हो जाते, तबतक वे लोग स्थिर और निश्चिन्त नहीं हो पाते हैं. तुम लोगों को स्वस्थ देखने से उनकी आल्हाद की सीमा नहीं रहती.

इसलिए तुमलोग कभी अपने माता-पिता के आज्ञा की उपेक्षा मत करना. वे लोग जैसा आदेश देंगे, वैसा ही करना. जिस काम को करने से मना कर देंगे, उस काम को कभी मत करना. जैसा करने से वे लोग संतुष्ट रहें, सर्वदा उसीकी चेष्टा करना. किस काम को करने से वे असंतुष्ट हों, उस काम को कदापि मत करना. जो लोग इस प्रकार का आचरण करते हैं, उनको सूसन्तान कहा जाता है. सूसन्तान होने से , माता पिता के सुख और आल्हाद की सीमा नहीं रहती. 
९वाँ पाठ 
सुरेन्द्र, मेरे पास आओ; मुझे तुमसे कुछ पूछना है.इतना सुनते ही, सुरेन्द्र तत्काल शिक्षक महाशय के पास उपस्थित हुआ. उन्होंने कहा, मैंने सुना है, कल तुम तालाब के किनारे खड़े हो कर, ढेला फेंक रहे थे; इससे मैं बहुत दुखी और असंतुष्ट हुआ हूँ. अभी मैं तुमसे पूछता हूँ, यह बात सत्य है य़ा नहीं?
सुरेन्द्र ने कहा, हाँ महाशय आपने जो सुना है, वह सत्य है; मैंने ढेला फेंका था. ढेला फेंकना कोई गलत बात है, वह मैं नहीं समझ सका. गाँछ की डाली पर एक पंछी बैठा था, उसको मारने के लिये मैंने ढेला फेंका था.

यह बात सुन कर, शिक्षक बोले, सुरेन्द्र, तुमने बहुत गलत काम किया है. पंछी ने तुम्हारा कुछ बिगाड़ा नहीं था, किस लिये तुम उसको ढेले से मारने की कोशिश कर रहे थे? यदि उसके देह पर ढेला लग जाता, तो उसे कितना कष्ट होता? यदि दूसरा कोई व्यक्ति ढेला चलाये और वह तुम्हारे शरीर पर लगे, तो तुमको कितना कष्ट होगा? मैं तुमको चेतावनी देता हूँ, कि आगे से तुम किसी पक्षी य़ा किसी भी जन्तु को कभी ढेले से नहीं मारोगे.

सुरेन्द्र यह सुन कर, अत्यंत लज्जित हुआ; एवं कहा, महाशय, मैं अबसे और किसी भी प्राणी को ढेला नहीं मारूंगा. बहुत से लड़के ऐसा करते हैं, उन्ही को देख कर मैंने भी वैसा कर दिया था. अब मैं समझ गया हूँ, कि किसी को ढेले से मारना अच्छी बात नहीं है. 

तब शिक्षक बोले, तुम्हारी यह बात सुनकर मैं संतुष्ट हुआ हूँ. किन्तु तुमने, जिस पक्षी को लक्ष्य करके ढेला चलाया था, वह ढेला उसके शरीर पर नहीं लगा. निकट में ही एक बालक खड़ा था, ढेला उसके सर पर लगा, उसका सर फुट गया और रक्त गिरने लगा. यदि उसके आँख पर लग जाता, तो वह जन्मजात काना हो सकता था. बालक दर्द से व्याकुल होकर कितना रोया है. अब तुम्ही देखो, ढेला चलाना कितनी बुरी बात है.

सुरेन्द्र यह सुनकर बहुत दुखी हुआ, एवं मैंने बहुत बड़ी गलती कि है, यह कह कर रोने लग पड़ा. कुछ देर बाद उसने कहा, महाशय, नासमझी के कारण मैंने यह दुष्कर्म किया है. आपके सामने वचन देता हूँ, फिर कभी ऐसा बुरा कर्म नहीं करूंगा. इस बार आप मुझे क्षमा कर दीजिये. 
शिक्षक यह सुन कर बहुत संतुष्ट हुए; एवं बोले, सुरेन्द्र, तुमने गलती करके, उसे स्वीकार कर लिया है, इससे मैं अतिशय संतुष्ट हुआ हूँ. देखो, ढेला चलाना अच्छी बात नहीं है, इस बात को फिर कभी  भूल मत जाना. 
१०वाँ पाठ 
चोरी करना कदापि उचित नहीं है ! 
बिना बताये दूसरों की कोई वस्तु ले लेने को चोरी कहते हैं.चोरी करना बहुत बड़ा दोष है. जो चोरी करता है,उसको चोर कहते हैं.चोर पर कोई विश्वास नहीं करता.चोरी करने के बाद, यदि चोर पकड़ा जाता है, तो उसके दुर्गति की कोई सीमा नहीं रहती. बच्चों के लिये यही उचित है,कि कभी चोरी न करे.

माता-पिता का यही कर्तव्य है,कि यदि अपने बच्चों को किसी की कोई वस्तु चोरी करते देख ले,तो उसको डांट-फटकार लगाये, एवं चोरी करने से क्या हानी होती है, इस बात को उन्हें अच्छी तरह से समझा दें. 

एक बार, एक बालक विद्यालय से, किसी दूसरे सहपाठी की पुस्तक चुरा कर घर ले आया. बहुत बचपन में ही इस बालक के माता पिता की मृत्यु हो गयी थी. उसकी मौसी ने उसको पाल-पोष कर बड़ा किया था. मौसी ने, उसके हाथ में वह पुस्तक देख कर पूछा, भुवन, तुमको यह पुस्तक कहाँ से मिली ? उसने कहा कि, यह पुस्तक मेरे विद्यालय के एक लड़के की है. 

वह समझ गयी, कि भुवन उस पुस्तक को कहीं से चुरा कर लाया है. किन्तु मौसी ने उससे पुस्तक को वापस कर देने के लिये नहीं कहा, भुवन को कोई डांट-फटकार भी नहीं लगायी, य़ा भुवन को आगे से चोरी करने को मना भी नहीं किया.

इसी बात से भुवन की हिम्मत और बढ़ गयी. वह जितने दिन विद्यालय में रहा, मौका मिलते ही, चोरी कर लेता था. इसी प्रकार करते करते वह क्रमशः, एक शातिर चोर बन गया. सभी लोग इस बात को जान गये, कि भुवन एक बहुत बड़ा चोर बन गया है. 
यदि किसी की कोई वस्तु कभी खो जाती, तो उसी को चोर समझ कर, सभी उसके ऊपर ही संदेह करते थे. जब भुवन किसी के घर जाता, तो उस घर के लोग, इस भय से बहुत सतर्क हो जाते कि यह कहीं कुछ चुरा तो नहीं लेगा; इसीलिये वे उसको दुत्कार कर, य़ा जरुरी लगा तो मारपीट कर अपने घर से भगा देते थे. 

कुछ समय के बाद, राजा के सिपाहियों ने भुवन को चोर समझ कर पकड़ लिया. तथा यह प्रमाणित भी हो गया, कि वह बहुत समय से चोरी करता आ रहा है, एवं कई लोगों की बहुत सारी चीजें चोरी कर ली है. न्यायधीश ने भुवन को फाँसी की सजा सुना दी. उस समय भुवन को होश हुआ. जिस स्थान पर अपराधियों को फांसी दी जाती है, जब उसको भी वहाँ ले जाया गया, तब भुवन राजा से बोला, आप दया करके, मेरी एक अन्तिम ईच्छा पूरी कर दीजिये, एक बार मुझे अपनी मौसी से मिलवा दीजिये. 

भुवन की मौसी को उस स्थान पर ले आया गया, वे भुवन को उस हालत में देख कर जोर जोर से रोने लगी, और रोते रोते भुवन के पास पहुंची. भुवन ने कहा, मौसी, अब रोने से क्या होगा. मेरे पास आओ तुम्हारे कान में मैं एक बात कहना चाहता हूँ. मौसी जब नजदीक पहुंची तो भुवन अपना मुख उनके कान के पास ले गया, एवं अपने दातों से कसकर, उसका एक कान ही काट लिया. तथा  उसकी भर्त्सना करता हुआ बोला, मौसी, आज जो मुझे फाँसी पर चढना पड़ रहा है, उसका एकमात्र कारण केवल तुम ही हो.

जिस दिन मैंने पहली बार चोरी की थी, तुम उसे जान गयी थी. उसी समय यदि तुम मुझ पर कड़ाई करती, कोई दण्ड दे देती, तो आज मेरी यह दशा नहीं होती. तुमने वैसा नहीं किया, इसीलिये मैंने तुमको यह पुरष्कार दिया है. 
सम्पूर्ण 

Thursday, January 20, 2011

अष्टांग-योग के पाँच सोपानों में सम्पूर्ण शिक्षा का सार है !

शिक्षा शब्द की व्युत्पत्ति संस्कृत की ‘शिक्ष्’ धातु से हुयी है, जिससे अभिप्राय है, सीखना- अर्थात गुरु-वाक्य में निहित भावों य़ा सिद्धान्तों को आत्मसात कर लेना. स्वामी विवेकानन्द चरित्र-निर्माणकारी एवं मनुष्य-निर्माणकारी शिक्षा पर बल देते हुए वे कहते हैं- " क्या तुमने इतिहास में नहीं पढ़ा है कि देश के मृत्यु का चिन्ह अपवित्रता (भ्रष्टाचार) य़ा चरित्रहीनता के भीतर से होकर आया है- जब यह किसी जाति में प्रवेश कर जाति है, तो समझना कि उसका विनाश निकट आ गया है....इस समय हम पशुओं की अपेक्षा कोई अधिक नीतिपरायण नहीं हैं. यदि समाज आज कह दे कि चोरी करने से अब दण्ड नहीं मिलेगा, तो हम इसी समय दूसरे की सम्पत्ति लूटने को दौड़ पड़ेंगे. पुलिस का डण्डा ही हमें सच्चरित्र बनाये रखता है, य़ा सामाजिक प्रतिष्ठा के लोप की आशंका ही हमें नीतिपरायण बनाती है, और वास्तविकता तो यही है कि हम पशुओं थोड़ा अधिक बेहतर हैं." (ज्ञान-योग :३२,२७५)  
अन्यत्र वे कहते हैं- " Education is assimilation of ideas  - भावों (पढने के बाद गाय जैसा पागुर करके भावों को पचा लेना) का आत्मसातीकरण ही शिक्षा है." 
और गुरु-वाक्य में निहित भावों को तबतक आत्मसात नहीं किया जा सकता जब तक मन को एकाग्र करने का कौशल न सीख लिया जाय.शिक्षा के लिये मनः संयोग य़ा एकाग्रता का कितना महत्व है, इसे स्पष्ट करते हुए स्वामीजी कहते हैं-" मेरे विचार से तो शिक्षा का सार मन की एकाग्रता प्राप्त करना है, तथ्यों का संकलन नहीं. यदि मुझे फिर से अपनी शिक्षा आरम्भ करनी हो और इसमें मेरा वश चले, तो मैं तथ्यों का अध्यन कदापि न करूँ. मैं मन की एकाग्रता और अनासक्ति की सामर्थ्य बढ़ाता और उपकरण के पूर्णतया तैयार होने पर उससे इच्छानुसार तथ्यों का संकलन करता." 
हम यह भी समझ सकते हैं कि मन में अनन्त शक्ति है जिसका प्रयोग करके नये-नये आविष्कारों द्वारा मानव-सभ्यता ने इतनी आश्चर्य जनक प्रगति की है. किन्तु उसके अत्यधिक चंचल हो जाने के कारण हम उसका अपनी इच्छानुसार प्रयोग करके जीवन-लक्ष्य को प्राप्त करने में असफल हो जाते हैं. अतः मन को अतिरिक्त चंचल बना देने वाले - काम, लोभ, अहंकार, ईर्ष्या आदि रिपुओं को अपना सबसे बड़ा शत्रू समझ कर उनके साथ युद्ध करके सबसे पहले उनको ही परास्त कर देना होगा. असली वीरता बाहर के शत्रुओं को जीत लेने में नहीं है, अपने मन में छुपे शत्रुओं को पहचान कर उनको खत्म करने में है. जिनके रहने के कारण मन इतना अधिक चंचल हो जाता है कि उसको एकाग्र करना बहुत कठिन जान पड़ता है; और हम मन कि असीम शक्ति को अपने उपयोग में लाकर अपने जीवन के चरम लक्ष्य (अमृतत्व ) की प्राप्ति करने से वंचित रह जाते हैं.
इन्ही सब कारणों को ध्यान में रख कर बहुत प्राचीन काल में ही महर्षि पतंजली ने आठ सोपान में मन को एकाग्र करने की एक वैज्ञानिक पद्धति का आविष्कार किया था- जिसे ' अष्टांग योग ' कहा जाता है. इस पद्धति को उन्होंने संस्कृत-सूत्र के रूप लिख कर संग्रहित किया था, साधारण मनुष्य उन सूत्रों को बिल्कुल नहीं समझ पाते थे. प्राचीन ऋषि लोग ऐसा मानते थे कि जो मनुष्य उच्च विद्या ग्रहण करने का योग्य अधिकारी होगा वह इन इन सूत्रों को पढ़ कर स्वयं ही समझ जायेगा.
किन्तु समस्त मानवता से प्रेम करने वाले आधुनिक ऋषि स्वामी विवेकानन्द अपने ' भारत का भविष्य' नामक अपने Lecture में कहते हैं- " मेरा विचार है, पहले हमारे शास्त्र में भरे पड़े आध्यात्मिकता के रत्नों को, जो कुछ ही व्यक्तियों के अधकार में मठों और अरण्यों में छिपे हुए हैं, बाहर लाना है. जिन मठाधीशों के अधिकार में ये छिपे हुए हैं, केवल उन्हीं से इस ज्ञान का उद्धार करना नहीं, वरन उससे भी दुभेद्य पेटिका अर्थात जिस भाषा (संस्कृत य़ा बंगला भाषा) में ये सुरक्षित हैं, उन शताब्दियों के पर्त खाए हुए संस्कृत शब्दों से उन्हें निकालना होगा. तात्पर्य यह कि मैं उन्हें सबके लिये सुलभ कर देना चाहता हूँ. मैं इन तत्वों को निकलकर सबकी, भारत के प्रत्येक मनुष्य की, सामान्य सम्पत्ति बनाना चाहता हूँ, चाहे वह संस्कृत जानता हो य़ा नहीं...अतः मनुष्यों की बोलचाल की भाषा (हिन्दी) में उन विचारों की शिक्षा देनी होगी. साथ ही संस्कृत की भी शिक्षा अवश्य होती रहनी चाहिये, क्योंकि संस्कृत शब्दों की ध्वनी मात्र से ही जाति को एक प्रकार का गौरव, शक्ति और बल प्राप्त हो जाता है." (५:१८३-८४) 
 अष्टांग-योग को 'योग-सूत्र '-अर्थात ‘योग के सूत्रों का संग्रह या संकलन' के नाम से भी जाना जाता है.
यमनियमासनप्राणायामप्रत्याहारधारणाध्यानसमाधयोः – यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि, अष्टौ – ये आठ, अङ्गानि— (योग के) अंग हैं।
  किन्तु अपने गुरु श्रीरामकृष्ण से प्राप्त निर्देश के अनुसार स्वामी विवेकानन्द युवाओं को यह परामर्श देते हैं कि अष्टांग-योग के तीन सोपान - प्राणायाम, ध्यान और समाधि का अभ्यास इस समय करने कि जरूरत नहीं है, इसके सेष बचे पाँच चरणों - 'यम,नियम, आसान, प्रत्याहार, धारणा' तक का अभ्यास करने से ही मन को एकाग्र किया जा सकता है. 
उसमे से पहले दो सोपान - 'यम और नियम' का अभ्यास अपने दैनन्दिन जीवन में प्रतिदिन प्रति मुहूर्त करना है. सेष तीन-' आसन, प्रत्याहार, धारणा ' का अभ्यास प्रतिदिन दो बार निर्दिष्ट समय पर प्रातः और संध्या के समय करना है.
यम का अर्थ है- अहिंसा, सत्य, अस्तेय, ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह. इस यम से चित्तशुद्धि होती है. शरीर,मन, वचन के द्वारा किसी को क्लेश न देना -यह अहिंसा कहलाता है. अहिंसा से बढ़ कर कोई धर्म नहीं है. सत्य के द्वारा हम कर्म-फल के भागी होते हैं, सत्य से सबकुछ मिलता है; सत्य में सबकुछ प्रतिष्ठित है. यथार्थ कथन को ही सत्य कहते हैं. चोरी से य़ा धमकी देकर दूसरों की चीज न लेने का नाम है अस्तेय. कभी भी संयम को त्याग कर पशु अस्तर में नहीं गिरना, शरीर मन से पवित्र रहने को ब्रह्मचर्य कहते हैं. अत्यन्त कष्ट के समय भी किसी मनुष्य से कोई उपहार (रिश्वत) ग्रहण न करने को अपरिग्रह कहते हैं.अपरिग्रह साधना का उद्देश्य यह है कि किसी से कुछ gift य़ा घूस लेने से ह्रदय अपवित्र हो जाता है, वह अपनी स्वतंत्रता खो बैठता है और बद्ध एवं आसक्त हो जाता है. अतः ये 5 do not doe's हैं, इन सबसे विरत रहना है. 
नियम- अर्थात नियमित अभ्यास और व्रत परिपालन. शौच, संतोष, तप, स्वाध्याय और ईश्वरप्रणीधान- इन्हें नियम कहते हैं. बाह्य और आन्तरि दोनों ही शुद्धि आवश्यक है. तृष्णा कि पूर्ति कभी नहीं हो सकती, अतः जितना आवश्यक है, उतना मिल जाने पर संतुष्ट रहना चाहिये.स्वाध्याय -सद्ग्रंथों का पाठ करना.ईश्वरप्रणीधान- यह विश्वास करना कि सृष्टि के पीछे एक स्रष्टा जरुर है, वही सत्य हमारी आत्मा में हैं, जिसके कारण यह स्थूल शरीर -चलता,बोलता है. 'माटी के पुतलो कैसे नचत हैं ?' अपने अन्तर्निहित सत्य को जानने के लिये सतत प्रयत्नशील रहना. और उस सत्य तक पहुँचने के लिये किसी भी कष्ट को सहने के लिये- तप के लिये तत्पर रहना. य़ा लक्ष्य तक पहुँचने के लिये कष्ट उठाने को तत्पर रहना. प्रातः काल उठना स्वाध्याय नित्य करना.  ये हैं 5 doe's इनका तथा उपरोक्त 5 do not doe's का अभ्यास प्रति मुहूर्त करना है. यह तो यम और नियम के बारे में हुआ. उसके बाद है आसन. 2.46    स्थिरसुखम् स्थिर पूर्वक तथा सुखयुक्त (बैठने की स्थिति) आसनम् आसन है।
आसन के आन्तरिक महत्व को समझना-इस प्रकार बैठना जिससे शरीर में कष्ट न हो. मेरुदण्ड और गर्दन सीधा रख कर straight बैठना है. परिवेश को स्वच्छ, सुगन्धित बना लेने से मन आनन्दित रहता है. अतः ऐसा नहीं समझना चाहिये की संख बजाना, घंटी-चंवर डोलना, होम-हवन करना य़ा पद्मासन में बैठने से ही एकाग्रता का अभ्यास किया जा सकता है. यह सब बाह्य-अनुष्ठान य़ा rituals है, इसको ही महत्व नहीं देना है. अर्धपद्मासन में बैठ कर य़ा सुखासन में बैठ कर भी एकाग्रता का अभ्यास किया जा सकता है. 
किसी आश्रम में साधुजी सुबह में जब अपने शिष्यों को प्रवचन देते थे, तो उसी समय उनकी एक पालतू बिल्ली आ कर उन्हें disturb करती थी. उन्होंने अपने प्रधान शिष्य को यह आदेश दिया कि प्रवचन के समय इस बिल्ली को एक खूंटे से बांध देना. कालान्तर में बूढ़े होकर वह साधुजी, उनका प्रधान शिष्य भी मर गये और वह बिल्ली भी मर गयी. जो नये साधु गद्दी पर बैठे- उन्होंने सोंचा कि जब तक एक काली बिल्ली को खोज कर उस खूंटे से न बंधा जाये तबतक प्रवचन का प्रारम्भ ही नहीं हो सकता. इसी तरह बाह्य अनुष्ठान को ही सबकुछ नहीं मान लेना है.
प्रत्याहार - अब कोई पूछे,कि एकाग्रता का अभ्यास करने के लिये फिर आसान में बैठने की भी क्या आवश्यकता है? "अनुभव-शक्तियुक्त इन्द्रियाँ लगातार बहिर्मुखी हो कर काम कर रही हैं और बाहर की वस्तुओं के सम्पर्क में आ रही हैं. उनको अपने वश में लाने को प्रत्याहार कहते हैं. अपनी ओर खींचना अर्थात अन्तर्यामी गुरु, विवेक-शक्ति की ओर आहरण करना- यही प्रत्याहार शब्द का प्रकृत अर्थ है."   चुपचाप silence में बैठ कर मन का पर्यवेक्षण करना है- मन में उठने वाले विचारों, दृश्यों को देखने के लिये- अपने मन में उठ रहे विचारों के बुलबुलों का पर्यवेक्षण करने से अन्तरदृष्टि विकसित हो जाति है. इसके लिये बहिर्मुखी मन को अन्तर्मुखी य़ा गुरुमुखी बना कर इसे दो भाग में मानो बाँट दिया जाता है- और द्रष्टा मन से दृश्य मन में उठने वाले विचारों य़ा उभरते हुए चित्रों का अवलोकन करना है. 
अर्धपद्मासन में बैठ कर पहले टकटकी बांध कर अपने पहले से चयनित युवा-आदर्श (Role -Model) के चित्र को थोड़ी देर तक देखने के बाद आँखों को मूंद कर पहले मन को उसकी इच्छानुसार किसी भी इन्द्रिय विषयों में जाने की छूट देंगे. जब मन किसी मतवाले हाथी की तरह उन्मत्त दिखाई देने लगेगा तो उसे वस में करने के लिये विवेक रूपी अंकुश मार कर, श्रेय-प्रेय का विचार करके एक ओर, श्रेय की ओर खींचेंगे.
धारणा - इन्द्रिय विषयों से खींच कर अन्तर्मुखी बने मन को अपने शरीर में किसी विशिष्ट स्थान- ह्रदय कमल में धारण करना होगा. किसी निराकार आदर्श के बारे में चिन्तन करना कठिन होता है, तथा किसी मूर्तमान पवित्र आदर्श पर मन को टिकाये रखना य़ा साकार नाम-रूप का चिन्तन करना सरल होता है. अतः अपने ह्रदय कमल पर बैठाने के लिये पहले से ही किसी मूर्त आदर्श का चयन कर लेना अच्छा होगा. हमारा परामर्श है कि अपने ह्रदय कमल पर मूर्त आदर्श के रूप में स्वामी विवेकानन्द की मूर्ति स्थापित कर- उनके ऊपर मन को धारण करना - Concentrate  करना  उचित होगा. अर्थात उस समय मन को past-future के बारे में बकबक करने से रोक कर अपने इष्ट के नाम-रूप-वाणी के ऊपर चिन्तन करना है - मानो वे कह रहे हों - " तुम हो मेरे भाई निरंजन, शुद्ध-बुद्ध-निष्पाप! उठो, जाग्रत हो जाओ. हे महान, यह नींद तुम्हें शोभा नहीं देती. उठो, यह मोह तुम्हें भाता नहीं. तुम अपने को दुर्बल और दुखी समझते हो ?
हे सर्वशक्तिमान, उठो, जाग्रत होओ, अपना स्वरुप प्रकाशित करो. तुम अपने को पापी समझते हो, यह तुम्हें सोभा नहीं देता.
तुम अपने को दुर्बल समझते हो, यह तुम्हारे लिये उचित नहीं है. जगत से यही कहते रहो, अपने से यही कहते रहो- देखो इसका क्या शुभफल होता है; देखो, कैसी विद्युत् की चौंध जैसा सबकुछ प्रकाशित हो जाता है, और क्षण मात्र में सबकुछ कैसे परिवर्तित हो जाता है. 
मनुष्यजाति से यही कहते रहो - उसे उसकी शक्ति दिखा दो. " (व्यवहारिक जीवन में वेदान्त-२०)   
व्यास के द्वारा महर्षि पतञ्जलि के योग सूत्र पर दी गयी व्याख्या य़ा ' व्यास-भाष्य' 1.12॥ में कहा गया है-
चित्तनदी नामोभयतोवाहिनी वहति कल्याणाय वहति पापाय च।या तु,
 कैवल्यप्राग्भारा विवेकविषयनिम्ना सा कल्याणवहा। 
संसारप्राग्भाराऽविवेकविषयनिम्ना पापवहा।तत्र वैराग्येण विषयस्रोतः खिली क्रियते।

विवेकदर्शनाभ्यासेन विवेकस्रोत उद्धाटयत इत्युभयाधीनश्चित्तवृत्तिनिरोधः।
-अर्थात चित्तनदी (मन) का प्रवाह दोनों तरफ हो सकता है, वह कल्याण की दिशा य़ा पाप की दिशा में भी प्रवाहित हो सकती है. जब उसका प्रवाह विवेक के तली से, अन्तर्मुखी दिशा में होता है, तो वह कल्याण की दिशा है. जब मन बहिर्मुखी होकर इन्द्रियविषयों के भोगों के लोभ वश संसार की ओर अधिक दौड़ने लगे तो, उस 'पापवहा'-प्रवाह को वैराग्य का फाटक लगा कर, अर्थात लालच कम करके, अन्तर्यामी गुरु 'विवेक' का दर्शन करने का अभ्यास करने से 'विवेकस्रोत' उदघाटित हो जाता है. 
 चित्त की वृत्तियों का निरोध- अर्थात 'योग' इन्हीं दो प्रवाहों पर निर्भर है." अतः हमलोग पवित्रता और प्रेम के मूर्त रूप चिर-युवा स्वामी विवेकानन्द के चित्र पर ही मन को एकाग्र करने का प्रयास करेंगे, शायद इसी लिये भारत सरकार ने भी १२ जनवरी को युवा दिवश घोषित किया है. 
परन्तु किसी के इष्ट पहले से ही पवित्रता और प्रेम के मूर्ति कोई अन्य महापुरुष - ईसा, नानक, बुद्ध, राम, कृष्ण , य़ा काबा का पवित्र पत्थर हो, तो वह उनके ऊपर भी मन को एकाग्र करने का अभ्यास कर सकते हैं. य़ा यदि कोई नास्तिक हो, तो वह कैंडल के लौ पर भी मन को एकाग्र रखने का अभ्यास कर सकता है. यही है धारणा.
किन्तु चेष्टा करने से भी मन तुरन्त दास नहीं बन जाता. वह बिगड़ा हुआ बच्चे जैसा है, उसकी आदतें खराब हैं- वह हाथ से लगाम खींच कर पुनः रूप,रस, गंध, शब्द, स्पर्श आदि इन्द्रिय विषयों में भाग जाता है, बहिर्मुखी हो जाता है. उसकी भाग-दौड़ से हार माने बिना, पुनः खींच कर सामने लाना है, उसको आदेश देना है, साथ साथ बालक जैसा समझाना है- ' तू क्या मुझे पशु बनाना चाहता है? तू मेरा यंत्र है, मैं तुम्हारा प्रभु हूँ, अभी मेरे सामने बैठ कर चुपचाप स्वामीजी की वाणी य़ा त्रिदेवों की वाणी पर चिन्तन करना है- थोड़ी देर तक भूत-भविष्य के बारे में बकबक करना बन्द करके इनकी वाणी सुनो!
कुछ लोग इस भाग-दौड़ से घबडा कर प्रश्न करते हैं- ६ महिना से तो मनः संयोग का अभ्यास कर रहा हूँ, पूर्ण तौर पर मन को नियन्त्रण करने में अभी और कितना दिन लग जायेगा ? यह कोर्स कितने  दिनों का है ? स्वामी विवेकानन्द इसी बात पर एक कथा कहते थे-
."नारद नामक एक महान देवर्षि थे. जैसे मनुष्यों में ऋषि य़ा बड़े बड़े योगी रहते हैं, वैसे ही देवताओं में भी बड़े बड़े योगी हैं नारद भी वैसे ही एक अच्छे और अत्यन्त महान योगी थे वे सर्वत्र भ्रमण किया करते थे.नारदजी प्रभु के परम-भक्त थे, श्रीहरी के पास उनका आना-जाना लगा रहता था. वे जब कभी चाहें नारायण के पास आ-जा सकते थे. नारद के लिये भगवान के पास जाने, य़ा इस दृष्टिगोचर जगत के परे जाने य़ा beyond time and space जाने में कोई बाधा नहीं थी. 
एक दिन नारदजी वीणा बजाते हुए हरी-नाम करते हुए प्रभु के यहाँ (बैकुण्ठ-लोक) जा रहे थे, वन में से जाते हुए उन्होंने देखा कि एक मनुष्य ध्यान में इतना मग्न है, और इतने दिनों से एक ही आसन पर बैठा है कि उसके चारों ओर दीमक का ढेर लग गया है. उसने नारद से पूछा, ' प्रभो, आप कहाँ जा रहे हैं'? नारदजी ने उत्तर दिया, 'मैं बैकुण्ठ जा रहा हूँ.' तब उसने कहा,'अच्छा,आप भगवान से पूछते आयें, वे मुझ पर कब कृपा करेंगे, मैं कब मुक्ति प्राप्त करूँगा.' फिर कुछ दूर और जाने पर नारदजी ने एक दूसरे मनुष्य को देखा. वह कूद-फांद रहा था, कभी नाचता था तो कभी गाता था. उसने भी नारदजी से वही प्रश्न किया. उस व्यक्ति का कंठस्वर, वागभ्न्गी आदि सभी उन्मत्त के समान थे. नारदजी ने उसे भी पहले के समान उत्तर दिया. वह बोला, 'अच्छा, तो भगवान से पूछते आयें, मैं कब मुक्त होऊँगा.' 
 लौटते समय नारदजी ने दीमक के ढेर के अन्दर रहनेवाले उस ध्यानस्थ योगी को देखा. उस योगी ने पूछा, ' देवर्षे, क्या आपने मेरी बात पूछी थी ?' नारदजी बोले, 'हाँ, पूछी थी.' योगी ने पूछा, 'तो उन्होंने क्या कहा ?' नारदजी ने उत्तर दिया,' भगवान ने कहा- ' अभी जितनी कठोर तपस्या कर रहा है, ऐसी ही कठोर तपस्या और चार जन्मो तक करेगा, इस प्रकार बार बार तपने और मरने के बाद उसे मुक्ति प्राप्त होगी.' तब तो वह योगी घोर विलाप करते हुए कहने लगा, ' हे भगवान तुम कितने निष्ठूर हो ! तुमने मुझ पर थोड़ी भी दया नहीं की ?मैंने इतना ध्यान किया है कि मेरे चारों ओर दीमक का ढेर लग गया, फिर भी मुझे और चार जन्म लेने पड़ेंगे!!' 
थोड़ी दूर जाने पर फिर वही भजनानन्दी साधु मिले, जो नाचते-गाते भजन कर रहे थे.उसने भी पूछा, ' क्या आपने मेरी बात भगवान से पूछी थी?' नारदजी बोले, ' भगवान ने कहा है, 'उसके सामने जो इमली का पेड़ है, उसके जितने पत्ते हैं, उतनी बार उसको जन्म ग्रहण करना पड़ेगा.' यह बात सुन कर, वह व्यक्ति हताश होने के बजाय और जोर जोर से नाच-गा कर प्रभु का नाम कीर्तन करने लगा और बोला,' हे प्रभु, तुम कितने दयालु हो ! तुमने मुझ जैसे अकिंचन का भी ध्यान रखा है ! और मैं इतने जन्मो तक तेरा नाम कीर्तन करता रहूँगा तो मेरी मुक्ति अवश्य होगी.' वह बड़े आनन्द से नृत्य करने लगा.'
मैं इतने कम समय में मुक्ति प्राप्त करूँगा !' तब एक आकाशवाणी सुनाई पड़ी, एक देववाणी हुई- 'वत्स, मैं तुम पर अति प्रसन्न हूँ, तुम इसी क्षण मुक्ति प्राप्त करोगे.' ईश्वर का यह वरदान उनको अपने अध्यवसाय-शीलता, य़ा अटूट धैर्य का पुरष्कार के रूप में प्राप्त हुआ. 
कथा का मर्म यह है कि,
वह दूसरा व्यक्ति इतना अध्यवसाय सम्पन्न था ! उसने ठान लिया था कि परम वस्तु को पाने के लिये मैं लाख जन्मों तक भी साधना करने को तैयार हूँ! उसे यह दृढ विश्वास था, कि यदि एकाग्रता का अभ्यास लगातार करता रहूँगा- पूरे अध्यवसाय के साथ तो मुझे अवश्य सफलता मिलेगी. परन्तु जो योगी चार जन्मों की बात सुनकर ही घबड़ा गया, और धैर्य छोड़ दिया उसको फल नहीं मिला. परन्तु जो व्यक्ति नारद जी के वचन को सत्य मान कर उनकी आज्ञानुसार लाख जन्मों तक साधना करने को प्रस्तुत था- उसको उसी क्षण मुक्ति मिल गयी." (१:१०५-६) 
सार बात यही है कि एकाग्रता की विद्या अर्जित करने के लिये हमे भी - अष्टांग के ५ अंगों का अभ्यास पूरे अध्यवसाय के साथ करते रहना होगा, तथा इस देह के नाश होने के बाद जब दूसरा देह प्राप्त होगा- तो उस देह से भी पुनः इसी अभ्यास को करूँगा और सिद्धि प्राप्त किये बिना नहीं रुकुंगा. ' लक्ष्य तक पहुँचे बिना विश्राम नहीं लूँगा ! इसी को दृढ संकल्प कहते हैं. 
हमे भी अष्टांग योग के ५ अंगों- 'यम,नियम, आसन, प्रत्याहार, धारणा ' को दो भागों में विभक्त कर, प्रथम दो अंग- ' यम-नियम' पर बहुत जोर देना होगा. महामण्डल के वरिष्ठ सदस्य लोग कई जगहों पर जाते हैं, उन्हें अक्सर सुनने को मिलता है- ' भैया जी, इतने दिनों से तो अभ्यास कर रहा हूँ, पर मनः संयोग कहाँ हो पाता है?' 
४४ साल के अनुभव के आधार पर जब वे उनसे पूछते हैं- ' मनः संयोग की पद्धति को जानते हो? तब वह भाई योग सूत्र के केवल ५ अंग बोलने के बजाय आठो सोपान फटाफट बोल जाता है. परन्तु जब वे उनसे पूछते हैं- ' क्या तुम सर्वदा झूठ बोलने से बचते हो और सत्य बात ही कहते हो ? लोभ कम हुआ है? संतोष आया है? परम तत्व को पाने के लिये, ' तपः ' - कुछ कष्ट उठाकर भी अभ्यास की दिनचर्या का पालन करते हो? काम,लोभ,ईर्ष्या, परदोष दर्शन य़ा पर-चर्चा में ही तो समय नहीं बिताते? अहंकार आदि मन के विकार कम हुए ? ईर्ष्या तो नहीं करते? 
आचरण में यदि यम-नियम का पालन २४ घन्टा प्रर्ति मुहूर्त करते रहा जाय- तो मन की अतिरिक्त चंचलता अवश्य दूर हो जाएगी. अगर हम मन को पूरीतरह से वशीभूत करके उसको अपना दास न भी बना सके तो कोई हर्ज नहीं, किन्तु 5 do not doe's और 5 doe's का अभ्यास करने से इतना लाभ तो अवश्य हगा कि मन कि अतिरिक्त चंचलता अवश्य दूर हो जाएगी, जीवन में संयम आयेगा हमारा चरित्र भी क्रमशः सुन्दर होने लगेगा. अधिकांश व्यक्ति मनः संयोग के दूसरे अंग,'आसन-प्रत्याहार-धारणा' का अभ्यास दिन भर में दो बार कर लेना यथेष्ट समझते हैं, और शिकायत करते हैं- कहाँ कुछ हो रहा है ? इसके साथ साथ ५ यम और ५ नियम का प्रति मुहूर्त अभ्यास करने से ही चरित्र गठित होता है. स्वामी विवेकानन्द कहते थे, ' यम-नियम का पालन करना केवल मनः संयोग का ही नहीं, वरन चरित्र-गठन का भी प्रथम सोपान है.' 
  इसी बात को रेखांकित करते हुए स्वामी विवेकानन्द कहते हैं- " असत अभ्यास (भ्रष्टाचार) का एकमात्र प्रतिकार है- उसका विपरीत अभ्यास. हमारे चित्त में जितने असत अभ्यास (रिश्वतखोरी आदि)  संस्कारबद्ध हो गये हैं, उन्हें सत अभ्यास द्वारा नष्ट करना होगा. केवल सत्कार्य कार्य(यम-नियम का पालन) करते रहो, सर्वदा पवित्र चिन्तन करो; असत संस्कार (भ्रष्टचार) रोकने का बस, यही एक उपाय है. ऐसा कभी मत कहो कि अमुक (आयेदिन छापे में पकड़ने वाले भ्रष्ट नेताओं और पदाधिकारियों) के उद्धार की कोई आशा नहीं है. क्यों? इसलिए कि वह व्यक्ति केवल एक विशिष्ट प्रकार के चरित्र का - कुछ अभ्यासों की समष्टि मात्र है, और ये अभ्यास नये और सत अभ्यास से दूर किये जा सकते हैं.चरित्र बस, पुनः पुनः अभ्यास की समष्टि मात्र है और इस प्रकार (यम-नियम) का पुनः पुनः अभ्यास ही चरित्र का सुधार (य़ा भ्रष्टाचार मुक्त) कर सकता है."
अष्टांग योग के केवल ५ सोपानों, 'यम-नियम-आसन-प्रत्याहार- धारणा ' के अभ्यास को शिक्षा का अंग बना लेने से भारत की समस्त समस्याओं का निदान हो सकता है, क्योंकि पतंजलि वैज्ञानिक भाषा में बात करते हैं।
     अष्टांग-साधना के बारे में इस वैज्ञानिक पद्धति के आविष्कारक महर्षि पतंजलि स्वयं कहते हैं- 2.31    जातिदेशकालसमयानवच्छिन्नाः – (उपरोक्त संयम) जाति, देश, काल और समय की सीमा से रहित, सार्वभौमा सार्वभौम होने पर, महाव्रतम् महाव्रत (के स्वरूप वाले) हैं।
अतः इसका अभ्यास किसी भी धर्म-संप्रदाय के अनुयायी य़ा नास्तिक भी कर सकते हैं." अष्टांग-योग " कोई धर्म-ग्रन्थ नहीं बल्कि एक विज्ञान है। योग का इस्लाम, हिंदू, जैन या ईसाई से कोई संबंध नहीं है। योग एक विज्ञान है, विश्वास नहीं है। जो कोई भी व्यक्ति इसका अभ्यास करेगा, सब को एक ही परिणाम प्राप्त होगा- उसका चरित्र अवश्य निर्मित हो जायेगा.
 

Monday, January 17, 2011

विवेकानन्द का दर्शन करने के अभ्यास से - ' विवेक स्रोत ' उदघाटित होता है !

पिछले तीन सम्पादकीय लेखों में हमने ' मनः संयोग ' की पद्धति को सीखने की आवश्यकता तथा शिक्षा को आत्मसात करने में इसके महत्व को समझा है. स्वामी विवेकानन्द कहते हैं- " मनुष्य और पशु में मूख्य अन्तर उनकी मन की एकाग्रता की शक्ति में है. किसी भी कार्य में सारी सफलता इसी एकाग्रता का परिणाम है....एकाग्रता की शक्ति में अन्तर के कारण ही एक मनुष्य दूसरे से भिन्न होता है. छोटे से छोटे आदमी की तुलना ऊँचे से ऊँचे आदमी से करो. अन्तर मन की एकाग्रता की मात्रा में होता है." 
इसी एकाग्रता के महत्व को रेखांकित करते हुए स्वामीजी कहते हैं- " अर्थ का उपार्जन हो, चाहे भगवद आराधना हो- जिस काम में जितनी अधिक एकाग्रता होगी, वह कार्य उतने ही अधिक अच्छे प्रकार से सम्पन्न होगा. द्वार के निकट जाकर पुकारने य़ा खटखटाने से जैसे द्वार खुल जाता है, उसी भाँति केवल इस उपाय से ही प्रकृति के भण्डार का द्वार खुल कर प्रकाश बाढ़ के रूप में बाहर आता है." 
हमलोगों ने यह भी समझा था, कि स्वाभाविक रूप से चंचल मन कामना-वासना कि मदिरा, लोभ, अहंकार, ईर्ष्या आदि विकारों से ग्रस्त हो कर अतिरिक्त चंचल हो जाता है; फलस्वरूप उसको एकाग्र करना कठिन हो जाता है. इसीलिये ऋषि पतंजलि ने आठ चरणों में मन को वशीभूत करने की पद्धति का आविष्कार किया था, और उसे सूत्र बद्ध करके योग-सूत्र दिया था- यम, नियम, आसान, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि.  हमलोग जो यथार्थ मनुष्य बनना चाहते हैं, उनके लिये स्वामीजी ने प्राणायाम, ध्यान और समाधि को बाद करके केवल पाँच अंगों का अभ्यास करना ही पर्याप्त माना था. इन पाँच अंगों को दो भाग में बाँट कर -' यम और नियम ' का पालन प्रति मुहूर्त करना है,तथा ' आसान-प्रत्याहार-धारणा ' का अभ्यास दिन में दो बार सुबह और शाम अपनी सुविधा के अनुसार निर्दिष्ट समय पर करना है. आज हमारे जीवन में व्यस्तता बढ़ गयी है इसलिए यदि संध्या में अभ्यास के लिये बैठना सम्भव न हुआ तो कम से कम रात में सोने से पहले बिछावन पर बैठ कर भी कर सकते हैं.  
मन की अतिरिक्त चंचलता को कम करने के लिये पहले जीवन में संयम लाना होगा, इसीलिये 5 do not doe's and 5 doe's अर्थात ' यम और नियम ' का पालन (अभ्यास) प्रति मुहूर्त २४ घंटे करना है.
अहिंसासत्यास्तेयब्रह्मचर्यापरिग्रहाः – अहिंसा, सत्य, अस्तेय(अचौर्य या चोरी का अभाव), ब्रह्मचर्य और अपरिग्रह(संग्रह का अभाव), यमाः – ये पाँच यम हैं।
 शौचसंतोषतपःस्वाध्यायेश्वरप्रणिधानानि – शौच, संतोष, तप, स्वाध्याय और ईश्वरप्रणिधान, नियमाः – (ये पाँच) नियम हैं। इसप्रकार हमने ५ यम और ५ नियम के बारे में जान लिया.
अब मनुष्य बनने के प्रशिक्षण के दूसरे भाग अर्थात-' आसान-प्रत्याहार-धारणा ' के ऊपर चर्चा करेंगे.एकाग्रता का अभ्यास करने के लिये बैठने का ढंग- अर्थात ' आसान '  कैसा होना चाहिये ?

 स्थिरसुखम् आसनम् – – स्थिर पूर्वक तथा सुखयुक्त (बैठने की स्थिति) आसन है।)
प्राचीन ऋषि-मुनी लोग पद्मासन में बैठ कर ध्यान लगाने का अभ्यास कर सकते थे, पर जो लोग उस प्रकार बैठने में अभ्यस्त नहीं हैं, उनको उस प्रकार बैठने पर शरीर में कष्ट होगा तो, मन उधर ही चला जायेगा. इसलिए सुखासन में य़ा बाबू जैसा पालथी मरकर भी बैठा जा सकता है. सर्वोत्तम ढंग है- अर्धपद्मासन में बैठना. इस प्रकार बैठने से - मेरुदण्ड, गर्दन और सर सीधा और सरल रेखा में रहता है जिससे शरीर के किसी भी अंग पर जोर नहीं पड़ता और हम बिना हिले-डुले काफी देर तक इसप्रकार बैठ सकते हैं. अर्धपद्मासन में बैठ कर प्रत्याहार का अभ्यास करना है.
स्वविषयासंप्रयोगे चित्तस्वरूपानुकार इवेन्द्रियाणां प्रत्याहारः ।।54।।
प्रत्याहार का अर्थ है- एक और आहरण करना यानि खींचना।  मन इंद्रियों के माध्यम से जगत के भोगों के पीछे दौड़ता है। मन की बहिर्गति को रोक कर उसे इंद्रियों की अधीनता से मुक्त करा कर अन्तर्मुखी करना - भीतर की ओर खींचना प्रत्याहार है।इसके लिये लिये कुछ समय चुपचाप बैठ कर मन का पर्यवेक्षण करना होगा. उसकी गतिविधियों का निरिक्षण करना है. मन में कई चित्र उभर रहे हैं- उनको  देखना है. 
पर मन को देखा कैसे जाता है ? हमलोग बाहरी वस्तुओं को आँखों से देख लेते हैं, परन्तु मन तो भीतर की वस्तु है और अत्यन्त सूक्ष्म है- उसको इन चर्म- चक्षुओं से नहीं देखा जा सकता है. मन को देखने का यन्त्र भी मन ही है. यह मन ही मानो दो भागों में बंट जाता है; ' द्रष्टा मन और दृश्य मन ''.  - मन का ही भाग द्रष्टा मन (Subjective mind ) बन कर दृश्य मन (Objective mind) को देखने लगता है. 
अभ्यास करने से मन एक साथ दो भाग में बंट सकता है, य़ा Double presence of mind हो सकता है. इसके लिये बाहरी आँखों को मूंद लेने से- मन में क्या क्या विचार उठ रहे हैं, उसमे कैसे चित्र उभर रहे हैं उनको देखना सरल हो जाता है. मन में Past-Future के विचार उठ रहे हैं, मन मानो भूत-भविष्य के बारे में लगातार कुछ न कुछ बक बक करता ही रहता है. उसमे ऐसे ऐसे विचार भी दृश्य बन कर उभर रहे हैं जो मन को नीचे भी ले जा सकते हैं. यदि इस प्रकार के दृश्य आ भी रहे हों, तो पहले मन को उन सबको देखने की छूट देनी है- जो भी कुछ दिखाई पड़ रहा हो चुपचाप उसे देखते रहो. 
इस प्रकार कुछ क्षणों तक स्वाधीनता देने के बाद, Objective Mind को आदेश देना पड़ेगा- सीमा के बाहर मत जाओ ! उसके साथ बातचीत करो- क्या तुम हर समय Past-Future के बारे में ही बकबक करते रहोगे ? क्या तुम मेरे सामने बैठ कर पवित्र नाम-रूप का श्रवण-मनन नहीं करोगे ? क्या तुम मुझे पशु बनाना चाहते हो ? मन को बालक के जैसा समझाना होगा- तुम मेरा यंत्र है, मेरा गुलाम है, मैं तुम्हारा स्वामी हूँ, तुम्हारा प्रभु हूँ- तुमको मेरी बात माननी ही पड़ेगी. मन को भूत-भविष्य में जाने से खींच कर तथा उसके बारे में बकबक करने से रोकर, अपने सामने वर्तमान में चुचाप मौन रहकर बैठने को मना लेना होगा. जैसे समझाने-बुझाने से बिगडैल बच्चे भी थोड़ी देर के लिये हमारी बात मान लेते हैं, वैसे ही मन भी सामने आकर बैठ जायेगा. परन्तु मन को खींच कर केवल सामने लाने से ही नहीं होगा, मन भी प्रकृति का अंश है, इसलिए कभी Vacuum होकर य़ा शून्य होकर नहीं रह सकता - उसमे फिर से सद्-असद चिन्तन उठने लगेगा. तब उसको एकाग्र करने का लक्ष्य सिद्ध नहीं होगा. इसी लिये मन का पर्यवेक्षण करके बहिर्मुखी मन को खींच कर, य़ा वैराग्य का फाटक लगाकर इन्द्रिय विषयों में जाने से लौटा कर उसे किसी पवित्र य़ा Positive आदर्श का चिन्तन करने का आदेश देना होगा.
देशबन्धश्चित्तस्य धारणा ।।1।।॥3.1॥ नाभिचक्रे हृदयपुण्डरीके मूध्र्नि ज्योतिषि नासिकाग्रे जिह्वाग्र इत्येवमादिषु देशेषु बाह्ये वा विषये चित्तस्य वृत्तिमात्रेण बन्ध इति धारणा।श्रीमद्व्यासभाष्ये)
धारणा - इन्द्रिय विषयों से खींच कर अन्तर्मुखी बने मन को अपने शरीर में किसी विशिष्ट स्थान- ह्रदय कमल में धारण करना होगा. किसी निराकार आदर्श के बारे में चिन्तन करना कठिन होता है, तथा किसी मूर्तमान पवित्र आदर्श पर मन को टिकाये रखना य़ा साकार नाम-रूप का चिन्तन करना सरल होता है. अतः अपने ह्रदय कमल पर बैठाने के लिये पहले से ही किसी मूर्त आदर्श का चयन कर लेना अच्छा होगा.
  हमारा परामर्श है कि अपने ह्रदय कमल पर मूर्त आदर्श के रूप में स्वामी विवेकानन्द की मूर्ति स्थापित कर- उनके ऊपर मन को धारण करना - Concentrate  करना  उचित होगा. 
महर्षि पतञ्जलि के योग सूत्र पर प्रथम प्रमाणिक व्याख्या “व्यास भाष्य” के रूप में प्राप्त होती है। व्यास भाष्य से तात्पर्य है- व्यास के द्वारा महर्षि पतञ्जलि के योग सूत्र पर दी गयी व्याख्या। पतंजलि योग-सूत्र ॥1.12॥ पर व्यासदेव अपने भाष्य में मन के बहिर्मुखी प्रवाह को अन्तर्मुखी बनाने का सरल उपाय बताते हुए कहते हैं-

चित्तनदी नामोभयतोवाहिनी वहति कल्याणाय वहति पापाय च।
या तु कैवल्यप्राग्भारा विवेकविषयनिम्ना सा कल्याणवहा। 
संसारप्राग्भाराऽविवेकविषयनिम्ना पापवहा।
तत्र वैराग्येण विषयस्रोतः खिली क्रियते।
विवेकदर्शनाभ्यासेन विवेकस्रोत उद्धाटयत इत्युभयाधीनश्चित्तवृत्तिनिरोधः। 

"- विवेकदर्शनाभ्यासेन विवेकस्रोत उद्धाटयत " इसे पढने से ऐसा प्रतीत होता है, मानो  व्यासदेव हजारों साल पहले जान चुके थे, कि 'विवेक-शक्ति ' ही सभी के ह्रदय में विद्यमान अन्तर्यामी गुरु है ! तथा एक दिन  (१२ जनवरी १८६३) को वे स्वयं ही स्वामी विवेकानन्द के रूप में आविर्भूत होंगे; तब उनके मूर्त रूप पर मन को धारण करने से ही ' विवेक-स्रोत ' उदघाटित हो जायेगा !
क्योंकि निराकार अन्तर्यामी गुरु के रूप में ' विवेक-शक्ति ' सबके ह्रदय में अवस्थित हैं, जो हमे सर्वदा श्रेय (Good)  और प्रेय (Pleasant ) में से चयन कर केवल श्रेय पथ पर चलने को अनुप्रेरित करते रहते हैं.  क्योंकि वास्तव में जो भी सारयुक्त, श्रेष्ठ, एवं श्रेयस है उसी से जुड़ना योग है।उसी निराकार अन्तर्यामी गुरु - ' विवेकशक्ति ' के मूर्तमान रूप हैं - स्वामी विवेकानन्द ! स्वामी विवेकानन्द के नाम-रूप पर मन को धारण करने के साथ ही साथ चरित्र के समस्त गुणों का ध्यान भी हो जाता है. वे २४ गुणों के मूर्तमान रूप हैं- उनका चित्र युवाओं का सर्वाधिक प्रिय और पसन्दीदा चित्र है- इसलिए उनके अनुकर्णीय चरित्र तथा उपदेशों को हमारा मन आसानी से चिन्तन कर सकता है. इसीलिये तो भारत सरकार ने भी उनके जन्म-दिन ' १२ जनवरी '  को ' राष्ट्रीय युवा दिवस ' घोषित किया है. 
अब हम मन से थोड़ा अलग हट कर मन में उठने वाले विचारों का कुछ समय पर्यवेक्षण कर सकते है. थोड़ा प्रत्याहार सध जाने पर हम देखते हैं की मन अब Past-Future के बारे में बकबक करना छोड़ कर, हमारे पूर्व चयनित आदर्श - स्वामी विवेकानन्द का ही चिन्तन करने में लगा है, परन्तु 1-2 second के बाद ही हाँथ से लगाम खींच कर मन फिर से इन्द्रिय विषयों में भाग गया है. पर मैं मन से हार नहीं मानूंगा- वह तो मेरा यन्त्र है, मैं उसका प्रभु हूँ, उसको फिर से खींच कर अपने सामने लाऊंगा. आज मन को हराना ही है - ' संतोष ' के द्वारा (देने वाले का ध्यान करके, जो मिला है उसका ध्यान नहीं करके ) लोभ को परास्त कर दूंगा,  कामना-वासना,  अहंकार, ईर्ष्या आदि रिपुओं को स्वामी विवेकानन्द के जीवन-चरित और उपदेश के द्वारा हरा दूंगा. मन पर यदि अधिक दबाव महसूस होने लगे तो उसे कुछ समय के लिये ढील देने के बाद- फिर से खींच कर सामने लाओ. इसी प्रकार ढीलदेते और खींचते हुए उसे अपने पूर्ण नियन्त्रण में लाना ही होगा. 
कोई पूछ सकते हैं क्या केवल स्वामी विवेकानन्द पर ही मन को एकाग्र रखने का अभ्यास करना होगा ? मेरे तो इष्ट-देव बुद्ध हैं, ईसा हैं, नानक हैं, कृष्ण हैं, राम हैं- अलग इष्ट हैं मेरे,  मैं बुद्ध पर ध्यान क्यों न करूँ ? भगवान  ईशू जो माता मेरी के गोद में हैं, उस पर ध्यान क्यों न करूँ ? कोई व्यक्ति यदि अपने गुरु य़ा इष्ट पर मन को धारण करे य़ा चैतन्य महाप्रभु अथवा राधा-कृष्ण पर मन को धारण करना चाहे तो उसमे कोई हर्ज नहीं है. परन्तु हमारा परामर्श केवल इतना है कि वह मूर्त आदर्श ' पवित्र ' तो होना ही चाहिये. किसी Sports-Man का ध्यान करना अच्छा नहीं है- क्योंकि कोई व्यक्ति अच्छा खेल सकता है, पर उसका चरित्र खराब भी हो सकता है. अतः स्वामी विवेकानन्द के विकल्प के रूप में जिस किसी भी मूर्त-आदर्श को चयन करें तो तुलना कर के देख लेना चाहिये कि वह महापुरुष भी - 'पवित्रता' और ' प्रेम ' की दृष्टि से इन्ही ' त्रिदेवों '  (श्रीरामकृष्ण-माँ सारदा-स्वामी विवेकानन्द ) के प्रतिमूर्ति ही हों. 
फिर भी यदि मन भाग जाये, य़ा अत्यधिक दबाव का अनुभव करने लगे, तो अपनी आँखों को खोल कर अपने आदर्श के चित्र को फिर से टकटकी बांध कर देखो. देखोगे कि मन अभी आँख खोल कर देखने पर भी वहाँ से भाग जा रहा है. परन्तु इस लड़ाई में हमे उससे हारना नहीं है, हम उसके प्रभु हैं, मन हमारा दास है- उसको बाह्य विषयों में जाने से खींच कर पुनः एक बार अपने इष्ट की मूर्ति पर धारण करना है. पुनः पुनः इसका अभ्यास करते रहने से - धीरे धीरे मन वश में आने लगता है.                      


Sunday, January 16, 2011

अष्टांग-सूत्र के पाँच अंग का अभ्यास ही यथेष्ट है.

पिछले दो सम्पादकीय लेखों में हमने यह समझ लिया, कि शिक्षा एक आन्तरिक प्रक्रिया है, तथा केवल मन को एकाग्र करके ही गुरुवाक्य में निहित भावों को आत्मसात किया जा सकता है. मन में अनन्त शक्ति है, किन्तु इस तथ्य को हमलोग अक्सर समझ नहीं पाते हैं; क्योंकि यह स्वभावतः चंचल है तथा  अभी कामना-वासना की मदिरा पीने से किसी उन्मत्त बन्दर की तरह मतवाला हो गया है.
अत्यधिक भोगों के लोभ वश, अहंकार का भूत सवार हो गया है, ईर्ष्या का बिच्छू इसे सदा डंक मरता रहता है. इसीलिये ऐसे अत्यधिक चंचल मन को वशीभूत करने का प्रशिक्षण प्राप्त कर किसी प्रयोजनीय विषय पर मन को एकाग्र रखने की क्षमता प्राप्त करने को ही स्वामी विवेकानन्द शिक्षा का मूल विषय कहते थे. 
विश्व में सर्वप्रथम हमारे प्राचीन ऋषियों ने ही इस तथ्य को समझा था, कि मन में अनन्त शक्ति है,तथा अपने चंचल मन को वशीभूत करके यदि हम अपने दिव्यत्व को अभिव्यक्त करें तो जीवन के किसी भी क्षेत्र में सम्पूर्ण सफलता प्राप्त कर सकते हैं. इसीलिये ऋषि पतंजली ने मन को पूरी तरह से वशीभूत करने की एक विज्ञान सम्मत पद्धति का आविष्कार किया था, जिसको हमलोग ' अष्टांग योग ' य़ा राजयोग के नाम से जानते हैं. 
 किन्तु उन्होंने अपने आविष्कारों को सूत्र के रूप में लिखा था इसीलिये साधारण मनुष्य उन सूत्रों को बिल्कुल नहीं समझ पाते थे. प्राचीन ऋषि लोग ऐसा मानते थे,कि उच्च शिक्षा सभी के लिये नहीं है, तथा जो मनुष्य इस विद्या को ग्रहण करने का अधिकारी होगा, वह इन सूत्रों को पढ़ कर स्वयं ही समझ जायेगा. 
किन्तु आधुनिक ऋषि स्वामी विवेकानन्द कहते हैं- इन ज्ञान-रत्नों को मठ-मन्दिर की चाहार्दिवारों से, अरण्य की कन्दराओं से बाहर निकाल कर गाँव,गाँव में घर घर में वितरित कर देना होगा. इसीलिये स्वामीजी ने पतंजली योगसूत्र य़ा अष्टांग योग पर अंग्रेजी में भाष्य लिखा और इस विद्या को भारत के साथ साथ पूरे विश्व तक पहुँचा दिया. मन के ऊपर आठ चरणों में पूर्ण नियन्त्रण प्राप्त करने का अष्टांग-सूत्र  इस प्रकार है- " यम-नियम-आसान-प्राणायाम- प्रत्याहार- धारणा- ध्यान- समाधि."
किन्तु सभी के लिये युवा अवस्था में ही इन आठों अंगों का अभ्यास करने की आवश्यकता नहीं है. श्रीरामकृष्ण चाहते थे कि युवा लोग वैयक्तिक मुक्ति के मोह में न पड़ कर अपने को संसार की सेवा के योग्य बनाएं. अपना चरित्र-निर्माण करके पहले स्वयं यथार्थ मनुष्य बने, फिर सम्पूर्ण मानवता के भीतर मनुष्यत्व-जागरण का शंख फूँकने की तैयारी करें. 
 परन्तु नरेन्द्रनाथ ने जब श्रीरामकृष्ण से कहा कि मैं शुकदेव की तरह सर्वदा निर्विकल्प समाधि में ही मग्न रहना चाहता हूँ; तब वे उनकी भर्त्सना करते हुए कहते हैं - ' छिः नरेन्, बार बार यही बात कहते तुझे लज्जा नहीं आती ? केवल अपनी मुक्ति की बात सोचना तो तुच्छ बात है- जब तक दूसरों की मुक्ति नहीं होती तुम्हें समाधि में नहीं जाना चाहिये. मैंने तो सोचा था, समय आने पर कहाँ तो तु विशाल बरगद का वृक्ष बन कर सबको शान्ति और छाया प्रदान करेगा, और कहाँ आज तु खुद एक स्वार्थी व्यक्ति की तरह अपनी ही मुक्ति के लिये बेचैन है ? इतना क्षूद्र आदर्श क्यों पाल रहा है ? निमीलित चक्षुओं से ईश्वर के दर्शन करने की इतनी उत्सुकता क्यों ? क्या खुली आँखों से तुम उन्हें नहीं देख सकते ? वे तो सब मनुष्यों में रमे हैं. मानव-मात्र में ' शिवजी ' विराजित हैं, इसीलिये (शिव-ज्ञान से ) मानव-सेवा ही भगवान की सर्वोच्च सेवा है ." 
नरेन्द्र बोले- ' निर्विकल्प समाधि न होने से मेरा मन पूरी तरह से शान्त नहीं होगा, यदि वह न हुआ, तो मैं वह सब कुछ न कर सकूँगा.' 
श्रीरामकृष्ण देव बोले - ' तु क्या अपनी ईच्छा से करेगा ? जगदम्बा तेरी गर्दन पकड़ कर करवाएंगी, तू नहीं करे, तेरी हड्डियाँ करेंगी.' 
 इसीलिये श्रीरामकृष्ण ने स्वामी विवेकानन्द के माध्यम से भविष्य के युवाओं को समाधि में न जाने का जो परामर्श दिया था, उसीको स्वीकार करते हुए- युवा महामण्डल के सदस्यों को 'ध्यान और समाधि' के steps को छोड़ देना है. 
स्वामी विवेकानन्द यह भी कहा करते थे कि, किसी योग्य गुरु के सानिध्य में रहे बिना प्राणायाम करने से दिमाग बिगड़ भी सकता है, अतः इसे भी बाद करना है. इस प्रकार अष्टांग के आठ अंगों में से तीन अंगों- प्राणायाम, ध्यान और समाधि को बाद करके केवल पाँच steps - यम, नियम, आसान, प्रत्याहार और धारणा का अभ्यास ही हमारे लिये यथेष्ट है. इन पाँच अंगों को भी दो भाग में बाँटा जा सकता है. प्रथम भाग में केवल दो अंग- ' यम और नियम ' का अभ्यास प्रतिदिन चौबीसों घंटे करना है, एक मिनट के लिये भी इसके अभ्यास से विमुख नहीं रहना है. द्वितीय भाग में तीन अंग- 'आसान, प्रत्याहार, धारणा ' का अभ्यास अपनी सुविधा के अनुसार निर्दिष्ट समय पर १०-१५ मिनट तक दिन में दो बार सुबह और शाम करना है. परन्तु पहले भाग- ' यम और नियम ' का अभ्यास प्रतिदिन और प्रति मुहूर्त करना है.   
यम का अर्थ है संयम. वे पाँच काम क्या क्या हैं, जिन्हें करने से हमे विरत रहना होगा. 5 do not doe's हैं- सत्य, अहिंसा, ब्रह्मचर्य, आस्तेय, अपरिग्रह. सत्य- हर समय जो सच हो वही बात कहनी चाहिये, झूठ कहने से बचना चाहिये. अहिंसा- हाथों से तो क्या मन से भी किसी का बुरा नहीं सोचना चाहिये, 
आस्तेय- चोरी कर लेने का भाव, बिना पूछे किसी दूसरे की कोई वस्तु ले लेने का भाव भी मन में नहीं उठना चाहिये. अपरिग्रह- दूसरे से मांग कर कुछ उपहार य़ा gift लेने का लोभ मन में नहीं रखना है, पर दूसरों के दिल पर ठेस न पहुँचे इसीलिये किसी की दी गई भेंट को यादगार समझ कर ग्रहण किया जा सकता है. श्रीरामकृष्ण भी उपहार में सिल्क का चादर और चाँदी का हुक्का ग्रहण करके एकबार शरीर पर रख कर त्याग दिये थे.यदि कोई श्रद्धा के साथ कुछ देता है तो, उसे श्रद्धा की निशानी समझ कर रखा जा सकता है. ब्रह्मचर्य- मन वचन शरीर से पवित्र जीवन जीना चाहिये, न तो अत्यधिक भोगों में डूबे रहना चाहिये और न तो कठोर तपस्वी जैसा रातभर जप-तप करते रहना चाहिये, य़ा हफ्ते ३ दिन व्रत-उपवास रखना चाहिये. बुद्धदेव का शरीर जब कठोर जप-तप आदि के कारण सूख कर काँटा हो गया तब सुजाता ने खीर दिया, जिसे खाने के बाद ही बुद्ध को ज्ञान हुआ था. कठोर-ब्रह्मचर्य य़ा liberal ब्रह्मचर्य जैसे वाद-विवाद में नहीं पड़ना है. ब्रह्मचर्य का तात्पर्य है- न तो अत्यधिक भोग का लालच रखना, और न ही अत्यधिक कठोरता पूर्वक जीवन जीना. 
५ नियम- किन कार्यों को करना उचित होगा ? 5 doe's - "शौच, संतोष, तपः, स्वाध्याय, ईश्वरप्रणीधानम." शौच- शुचिता रखना, बाहरी स्वच्छता और आन्तरिक शुचिता जैसे गंदे कपड़े नहीं पहनुगा वैसे ही मन में गंदे विचार भी नहीं उठने दूंगा. तन-मन से शुद्ध पवित्र रहना. संतोष- अधिक भोग के लालायित नहीं रहना, जितना जीने के लिये आवश्यक हो, उतना मिल जाने से तृप्त रहना. स्वाध्याय- गन्दी पुस्तक नहीं पढना, बुरे चित्र नहीं देखना, सदग्रंथ य़ा स्वामी विवेकानन्द की रचनाओं को पढना. तपः - पूर्णत्व की प्राप्ति के लिये सहर्ष कष्ट सहन करने को प्रस्तुत रहना. ईश्वर के साथ पुनर्मिलन के आनन्द को पाने य़ा सत्य का दर्शन करने में जितना तप आवश्यक हो उसे सहन करना. ईश्वरप्रणीधान- इस जगत के कोई स्रष्टा हैं, इस पर विश्वास रखना और उनको जानने के लिये चेष्टा करना .
इस प्रकार यम और नियम का पालन जीवन में प्रति मुहूर्त करते रहने से जीवन में संयम आयेगा तो मन की अतिरिक्त चंचलता क्रमशः कम होती जाएगी, तथा हम अपना चरित्र गठित करने की योग्यता प्राप्त कर लेंगे. 

Tuesday, January 11, 2011

शिक्षा की परिभाषा

जहाँ तक आंकड़ों का प्रश्न है, आज के भारत में साक्षरता का प्रतिशत बढ़ा है. किन्तु समाज में नैतिक मूल्यों की कमी आ रही है. जो भ्रष्टाचार का बोलबाला दिखाई दे रहा है, सर्वत्र स्वार्थ का जो नग्न नृत्य दिखाई देता है, उसे देखकर सहज प्रश्न उठता है, क्या हमारा ' सर्व शिक्षा का अभियान ' सही दिशा में जा रहा है? क्या स्वामी विवेकानन्द के परामर्श पर अमल करते हुए देश की शिक्षा नीति का नाम और लक्ष्य- " सर्व  मनुष्य निर्माणकारी शिक्षा का अभियान " नहीं होना चाहिये? 
स्वामीजी ने कहा है- ' एजुकेशन इज मैनिफेस्टेशन ऑफ़ परफेक्शन आलरेडी इन मैन." शिक्षा मनुष्य के भीतर निहित पूर्णता का विकास है.' स्वामीजी पुनः कहते हैं, ' शिक्षा क्या है? क्या वह किताबी ज्ञान है ? - तो क्या वह बहुमुखी ज्ञान है ? -वह भी नहीं. शिक्षा वास्तव में एक ऐसा प्रशिक्षण है, जिसके द्वारा ईच्छा-शक्ति की अभिव्यक्ति और उसकी प्रवृत्ति को विवेक-सम्पन्न बुद्धि के नियन्त्रण में लाकर लाभदायक संकल्प में परिणत कर लिया जाता है. '
'What is education? Is it book-learning ? Is it diverse knowledge? Not even that. The training by which the current and expression of will are brought under control and become fruitful is called education. ' (4:490)
स्वामीजी ने एक बात और कही थी, जिसके बड़े दूरगामी मनोवैज्ञानिक अर्थ हैं. उन्होंने कहा कि शिक्षा दी नहीं जा सकती.जानने की प्रक्रिया द्वारा मनुष्य कोई कोई नई चीज नहीं जानता, बल्कि वह आविष्कार करता है. सारा ज्ञान मनुष्य के भीतर निहित है, अध्यापक, पुस्तक, और विषय की साहायता से वह उस ज्ञान को अपने भीतर अनुभव कर पाता है. अर्थात शिक्षा य़ा शिक्षण पद्धति एक सहायक-उद्दीपक मात्र है, अनुकूल वातावरण दिये जाने पर व्यक्ति अपने भीतर के ज्ञान को आविष्कृत कर लेता है, तो इससे यह सिद्ध हो जाता है कि शिक्षा एक आन्तरिक प्रक्रिया है. शिक्षा का भारतीय आदर्श मन के ऊपर ऐसा नियन्त्रण प्राप्त करना है, जिससे हम उसे जब और जहाँ चाहें ठीक वहीं लगा सकें और ईच्छा मात्र से वहाँ से अनासक्त होकर, उस विषय से खींच कर अन्य किसी प्रयोजनीय विषय में लगा देने में भी समर्थ हों. स्वामीजी कहते हैं- " Knowledge is inherent in man; no knowledge comes from outside; it is all inside... We say Newton discovered gravitation. Was it sitting anywhere in a corner waiting for him ? It was in his own mind; the time came and he found it out. All knowledge that the world has ever received comes from the mind; the infinite library of the universe is in your own mind. The external world is simply the suggestion, the occasion, which sets you to study your own mind."  (1.28)  
मानव सभ्यता के इतिहास में हम जो भी प्रगति देखते हैं, वह सब मन कि शक्ति के प्रयोग द्वारा ही संभव हुआ है. यदि हम अपने दैनिन्दन जीवन की छोटी छोटी घटनाओं पर भी विचार करें तो हम जान सकते हैं कि बिना मन की सहायता के हम देख य़ा सुन भी नहीं सकते हैं. हम सभी लोगों का यह अनुभव है कि हमारा मन और कहीं लगा हो और सामने से कोई व्यक्ति चला जाये तो हम उसे देख नहीं पाते हैं. ईश्वरचंद्र विद्यासागर की आँखे खुली थी, सामने से बारात-पार्टी गुजर गया पर चुकी उस समय उनका मन पढ़ाई करने में तल्लीन था, इसीलिये वे देख नहीं सके कि बारात किस तरफ मुड़ा है.  
आँखें - यह खिड़की है, दर्शन इन्द्रिय (optic -nerve ) मस्तिष्क में स्थित गोलक हैं, उके साथ चूँकि मन संयुक्त नहीं था इसीलिये वे नहीं देख सके थे. उसी तरह कान भी खुला हुआ हो पर हम अनमनस्क रहें, अर्थात मन मस्तिष्क में स्थित श्रवण-इन्द्रिय से संयुक्त न हो तो हम सुन भी नहीं पाते है.
पढ़ाई करते समय किताब सामने है, आँखें भी खुली हैं पर मन यदि क्रिकेट के मैदान में चला गया तो हम कुछ पढ़ नहीं पाते हैं.पढने का वास्तविक साधन केवल ये आँखे नहीं हैं, बल्कि मस्तिष्क में स्थित दर्शन-इन्द्रियाँ और मन इन तीनों को हम किसी ज्ञातव्य विषय पर जितना अधिक एकाग्र राख सकेंगे, हमे उसी परिमाण में अधिक सफलता प्राप्त होगी.  
आज हमारी प्रचलित शिक्षण पद्धति में पढने के आन्तरिक साधन मन को एकाग्र करने का प्रशिक्षण देने की कोई व्यवस्था व्यक्ति नहीं है. हमलोग शैक्षणिक डिग्रियों को गाउन पहन कर ग्रहण करते हैं, फिर उसे गाउन की तरह ही उतार कर दीवाल पर टांग देते हैं. यह शिक्षा हमारे भीतर नहीं घटती है, उसको आत्मसात कर के हम इसे अपने स्वरुप का हिस्सा नहीं बनाते. यह केवल तथ्यों को रट लेने जानकारियों को संग्रहित कर लेने के स्तर पर आकर रुक जाती है. इसीलिये इसके द्वारा व्यक्ति के चरित्र में कोई गुणात्मक परिवर्तन नहीं हो पाता. गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही' कहते हैं -

जो भरा नहीं है भावों से, बहती जिसमें रसधार नहीं;
 वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं 

 स्वामीजी कहते हैं- "  जिस शिक्षा से हम अपना जीवन-गठन कर सकें, मनुष्य बन सकें, चरित्र-निर्माण कर सकें और भावों को आत्मसात कर सकें, वही वास्तव में शिक्षा कहलाने योग्य है. यदि तुम पाँच ही भावों को हजम कर तदनुसार जीवन और चरित्र गठित कर सके हो तो तुम्हारी शिक्षा उस आदमी की अपेक्षा बहुत अधिक है, जिसने एक पूरी लाइब्रेरी ही कंठस्त कर ली है."  
किसी भी मनुष्य में तीन प्रमुख अवयव होते हैं- शरीर, मन और ह्रदय य़ा आत्मा. मनुष्य का अस्तित्व इन्हीं तीनों पर निर्भर रहता है. यह शरीर पञ्चभूतों से य़ा स्थूल पधार्थों से बना है, मन अति सूक्ष्म है, आत्मा उससे भी ज्यादा सूक्ष्मतर है. इसीलिये स्वामी विवेकानन्द मन को आत्मा का दिव्य चक्षू य़ा आत्मा का यन्त्र भी कहते हैं. अर्थात आत्मा मन का प्रभु है, मन का स्वामी है. मन आत्मा का Instrument य़ा यन्त्र जैसा है. मन में असीम शक्ति है, इसकी सहायता से हम किसी भी विषय का ज्ञान अर्जित कर जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं.
मन को एकाग्र कर के इससे भी श्रेष्ठ उपलब्धि प्राप्त हो सकती है, हम लोग सत्य-द्रष्टा य़ा ऋषि बनकर मानव जाती के सच्चे नेता भी बन सकते हैं, किन्तु हममे से अधिकांश मनुष्य इस चरम लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाते हैं.  कारण यह है कि, मन स्वाभाविक रूप से ही अत्यन्त चंचल है, १ सेकंड के लिये भी एक जगह पर नहीं टिकता है, अभी हमलोग यहाँ बैठे हैं, आँखे खुली हैं, कान खुले हैं, पर मन घर चला गया. अभी यहाँ कितना ठंढा है, घर में होते तो कितना अच्छा होता, य़ा घर में अभी माँ क्या नास्ता बना रही होगी, आदि आदि बातों में मन दौड़ता रहता है. इस प्रकार यदि हमारा मन एकाग्र न हो, हर समय विभिन्न विषयों में बिखरा रहता हो- तो हम मन की शक्ति को समझ नहीं पाते हैं. मन हमेशा इन्द्रिय विषयों में बिखरा रहता है, इसीलिये इसकी असीम शक्ति को अपनी इच्छानुसार किसी विषय में लगा कर उसका ज्ञान अर्जित करने में असफल रह जाते हैं. 
हम जानते हैं कि सूर्य में प्रचण्ड ताप है, यदि सारे दिन कोई व्यक्ति धूप में खड़ा रहे तो उसका शरीर उत्तप्त जरुर हो जायेगा, किन्तु जल कर राख तो नहीं हो जायेगा. इतना तो कोई अनपढ़ व्यक्ति भी जानता है कि सूर्य में ताप है, जिसके कारण खाली पैर चलने से पैर में जलन होने लगती है.परन्तु सौर ऊर्जा की शक्ति केवल उतनी ही नहीं है.यदि एक convex lens को कागज पर रख कर सूर्य की किरणों को केन्द्रीभूत किया जाय तो वे जिस बिन्दु पर focused रहती हैं, उस बिन्दु पर कागज पहले काला होने लगता है, फिर उसमे से धुआं उठने लगता है, फिर उस कागज में आग पकड़ लेता है, कागज जल कर राख हो जाता है. 
कागज को जलाने की शक्ति उस लेंस में नहीं है, उस कागज को जलाने में उसकी एक भूमिका जरुर है, किन्तु वह आग उस लेंस में नहीं थी, लेंस को कागज पर रखने से कागज को कुछ नहीं होगा. पर लेन्स को धूप में रख कर focus करने से उसकी ऊष्मा concentrate होकर कागज को भी जला देती है.  
आजकल तो सौर ऊर्जा को नियन्त्रित करके उससे चूल्हा,लैम्प, बैटरी, वाटर हीटर आदि का उपयोग भी हो रहा है.हमलोग जानते हैं कि atomic power, petroleum power, coal power आदि का स्टॉक लिमिटेड है. जिस रफ़्तार से पेट्रोल-डीजल कि खपत बढती जा रही है, भविष्य में कुछ दशकों के बाद ही उसका reserve समाप्त हो जायेगा, तो क्या हमें कल-कारखाने बन्द करने होंगे ? मोटर-गाड़ी, रेल, हवाई जहाज आदि चलने बन्द हो जायेंगे?
नहीं, वैज्ञानिक लोग कहते हैं यदि हमलोग सौर ऊर्जा को प्रयोग करने कि विधि को और विकसित करें तो इसका उपयोग हम हर जगह में कर सकते हैं. अभी इसी दिशा में शोध कार्य चल भी रहा है. आज ही १३ जनवरी २०११ के समाचार पत्र के अनुसार आस्ट्रेलिया में एक सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का भी आविष्कार हुआ है जो ८८ की.मी. प्रति घंटे की रफ़्तार से चल सकती है. सौर ऊर्जा के अक्षय भण्डार की तरह ही हमलोगों के मन में भी असीम शक्ति है, उसको संयमित और एकाग्र रखने से सबकुछ प्राप्त किया जा सकता है. 
किन्तु वह अत्यन्त चंचल है. वह अत्यन्त द्रुत गति सदा दौड़ता रहता है, इसीलिये हम अभी मन की शक्ति का पूरा उपयोग नहीं कर पा रहे हैं. जो छात्र अपने प्रयास द्वारा, अपने मन को जितना अधिक एकाग्र रख पाता है, वह दूसरों की अपेक्षा उतनी ही अधिक मात्रा में ज्ञान भी अर्जित कर सकता है. अतः इस चंचल मन को अपनी प्रयोजनीयता के अनुसार किसी ज्ञातव्य विषय पर एकाग्र करने और इच्छामात्र से हटा लेने का कौशल अवश्य सीख लेना होगा.
यह मन स्वाभाविक रूप से जितना चंचल होता है, उतना ही रहता तो, उसे आसानी से संयमित और एकाग्र किया जा सकता था. किन्तु मन में रहने वाले षडरिपू- काम, क्रोध, लोभ,मोह,मत्सर और अहंकार आदि के कारण उसकी चंचलता कई गुणा अधिक बढ़ जाती है. कामना-वासना ( मन में उठते रहने वाले Desires), लोभ, और अहंकार, ईर्ष्या आदि विकार मन को अत्यन्त चंचल बना देते हैं, जिसके कारण यह हर समय बेचैन बना रहता है, एकाग्र होना ही नहीं चाहता.
अतः यदि हम मन को एकाग्र करना चाहते हों तो सबसे पहले इन षड-रिपुओं को ही परास्त करना होगा. स्वामी विवेकानन्द मन की तुलना एक बन्दर से किये हैं, वह हर समय चंचल रहता है, हाथ पैर हिलाता रहता है, कभी एक जगह पर बैठता नहीं है, आँख भी पिट-पिट करता रहता है. वैसा चंचल बन्दर यदि शराब पी ले तो क्या होगा? और भी ज्यादा चंचल हो जायेगा. फिर उस बन्दर को कोई बिच्छू डंक मार दे तब तो वह और भी ज्यादा उछलने-कूदने लगेगा. अब यदि उस बन्दर पर एक भूत भी सवार हो जाये, तब उस बन्दर की हालत कैसी होगी ? उस बन्दर के चंचलता की कोई सीमा नहीं होगी.
अभी हमलोगों के मन की अवस्था ठीक उसी मदमस्त बन्दर जैसी है. हमलोगों ने भी कामना- वासना रूपी मदिरा का पान कर लिया है. भले ही हमने कभी शराब को छुआ भी नहीं हो, किन्तु मन में अत्यधिक भोग प्राप्त करने के लिये जो लोभ रूपी मदिरा मन में है उसी मदिरा ने मन को और अधिक मतवाला बना दिया है. जीवन में संतोष बिल्कुल नहीं है, लोभ इतना बढ़ गया है कि सबकुछ रहने पर भी - और चाहिये, और अधिक भोग मिलना चाहिये, की रट लगी ही रहती है. जीवन की आवश्यकताओं को तो पूरा किया जा सकता है, किन्तु संतोष नहीं रहने से लोभ जब तृष्णा बन जाता है, तो उसकी पूर्ति नहीं की जा सकती है. फिर ईर्ष्या का बिच्छू डंक मारने लगता है. किसी दूसरे को अपने से आगे बढ़ता देख कर मन में हिंसा, जलन होने लगता है. पर-निन्दा, पर-चर्चा करने से मन में ईर्ष्या का बीज पड़ जाता है, जिसके दंशन से मन हमेशा छट-पट करता रहता है. अब जो आगे बढ़ गया उसको किसी भी तरह नीचे करके ही दम लूँगा- ऐसा अहंकार रूपी भूत भी सवार हो जाता है. इसीलिये मन अतरिक्त चंचल बना रहता है. ऐसे बिल्कुल चंचल मन को कैसे शान्त कर पायेंगे ? 
इसके लिये तो पहले कामना-वासना, लोभ, अहंकार, ईर्ष्या आदि मन के विकारों पर विजय प्राप्त करना होगा. इन शत्रुओं को पराजित करने का उपाय है- लालच को कम करते हुए नित्य अभ्यास करना. इसी कौशल को सीख लेना होगा. 
==============